ख़बरदेशराजनीति

तैयारियां पूरी : कमलनाथ आज लेंगे 18वें CM पद की शपथ, लगेगा विपक्षी नेताओं का जमावड़ा

Kamal Nath

भोपाल . वरिष्ठ कांग्रेस नेता कमलनाथ आज दोपहर यहां जंबूरी मैदान पर आयोजित भव्य समारोह में मध्यप्रदेश के अठारहवें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करेंगे।

सख्त सुरक्षा प्रबंधों के बीच आयोजित इस समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के अलावा संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) घटक दलों के शीर्ष नेता भी शामिल होंगे। इनमें मुख्य रूप से पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमाेहन सिंह और एच डी देवेगौड़ा, वरिष्ठ नेता फारुख अब्दुल्ला, शरद पवार, शरद यादव, चंद्रबाबू नायडू, तेजस्वी यादव, दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया आदि भी मौजूद रहेंगे।

राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल दोपहर डेढ बजे श्री कमलनाथ को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाएंगी। श्री कमलनाथ फिलहाल अकेले शपथ ले रहे हैं और कुछ दिनों में मंत्रिमंडल का गठन करेंगे। श्री कमलनाथ आज शपथ लेने के बाद अपने संबोधन में किसानों की कर्ज माफी के संबंध में भी घोषणा कर सकते हैं।

राज्य में पंद्रह वर्षों बाद कांग्रेस की सत्ता में वापसी के कारण शपथ ग्रहण समारोह को भव्य और समारोहपूर्वक मनाया जा रहा है। समारोह में प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से लाखों कार्यकर्ता शामिल होंगे। इसलिए ही समारोहस्थल के रूप में भेल के जंबूरी मैदान का चयन किया गया है।

शपथ ग्रहण समारोह में अतिविशिष्ट व्यक्ति शामिल होंगे, इसके मद्देनजर पुलिस ने सुरक्षा के काफी सख्त बंदोबस्त किए हैं। इसके अलावा राज्य के विभिन्न हिस्सों से लाखों कांग्रेस कार्यकर्ता भी यहां आ रहे हैं। इसके कारण शहर में यातायात व्यवस्था परिवर्तित की गयी है। शहर में प्रवेश करने वाले सभी मार्गों पर बाहर से आनी वाली बसों और अन्य वाहनों की पार्किंग के लिए स्थान निर्धारित किए हैं। उसके बाद से कार्यकर्ताओं को पैदल ही या छोटे वाहनों से समारोहस्थल तक जाना होगा।
कांग्रेस ने श्री कमलनाथ और पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के बैनर, पोस्टर और स्वागत द्वारों से शहर का पाट दिया है। शहर में विभिन्न प्रमुख मार्गों पर अब कांग्रेस के झंडे और उनके नेताओं के कटआउट दिखायी दे रहे हैं। पुलिस प्रशासन ने भी पूरे शहर में यातायात की व्यवस्था बनाए रखने के लिए हरसंभव आवश्यक प्रबंध किए हैं।
मध्यप्रदेश में पंद्रहवीं विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस श्री कमलनाथ के नेतृत्व में विजय हासिल कर सरकार बनाने जा रही है। बहत्तर वर्षीय

कमलनाथ राज्य के छिंदवाड़ा संसदीय क्षेत्र से सांसद थे और केंद्रीय नेतृत्व ने अप्रैल के अंतिम सप्ताह में उन्हें प्रदेश अध्यक्ष पद की कमान सौंपकर विधानसभा चुनाव में तैयारियों की पूरी जिम्मेदारी एक तरह से उन्हें ही सौंप दी थी। पार्टी की विजय के बाद श्री कमलनाथ को विधायक दल का नेता चुना गया और अब वे राज्य के अठारहवें मुख्यमंत्री होंगे।
राज्य का गठन एक नवंबर 1956 को हुआ था, तब पंडित रविशंकर शुक्ला को प्रदेश का पहला मुख्यमंत्री बनने का सौभाग्य मिला था। व्यक्ति के रूप में

कमलनाथ अठारहवें मुख्यमंत्री हैं, जो भाजपा के वरिष्ठ नेता श्री शिवराज सिंह चौहान के बाद इस पद पर काबिज होंगे। श्री चौहान राज्य में तेरह वर्षों से अधिक समय से मुख्यमंत्री पद पर रहे।
राज्य विधानसभा में 230 सदस्य हैं। कांग्रेस 114 सीटों के साथ सबसे बड़ा दल है, जबकि भाजपा 109 सदस्यों के साथ दूसरे क्रमांक पर है। इसके अलावा बसपा के दो, सपा का एक और चार निर्दलीय विधायक हैं। भाजपा सदस्यों को छोड़कर सभी विधायक कांग्रेस के साथ हैं।

 

Back to top button