क्राइम

पापा का दोस्त बताकर किया किडनैप, फिर रेप कर खून में लथपथ मासूम को सड़क पर छोड़ा

जयपुर । राजधानी के शास्त्री नगर में सोमवार रात सात साल की एक बच्ची से दुष्कर्म की घटना के बाद आरोपित को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर उपजा तनाव मंगलवार को भी जारी रहा। प्रर्शदन में असामाजिक तत्वों के शामिल होने की अशंका के मद्देनजर शहर की 13 थाना इलाकों में प्रशासन ने इंटरनेट सेवा को बंद करते हुए धारा 144 लगा दी है। मासूम जेकेलोन अस्पताल में भर्ती है, जहां उसकी हालत ठीक है। घटना से गुस्साए कुछ लोगों ने भट्‌टा बस्ती इलाके में दो बार पुलिसकर्मियों पर पथराव भी किया।

सरकार के मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने जेकेलोन अस्पताल में मुलाकात की। उन्होंने कहा कि बच्ची पूरी तरह स्वस्थ है। वहीं अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस जंगा श्रीनिवास, महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष सुमन शर्मा भी अस्पताल पहुंचीं। सुमन शर्मा ने कहा मुख्यमंत्री राज्य के बाहर दौरे कर रहे हैं, राजधानी में मासूम बच्चियां सुरक्षित नहीं है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिल्ली से ही ट्वीट कर पीड़ित परिवार को पांच लाख रुपये की मदद की घोषणा की है। दूसरी तरफ घटना के बाद उग्र हुए स्थानीय लोगों को समझाने के लिए कांग्रेस विधायक अमीन कागजी व रफीक खान ने मोर्चा संभाला है।

इंटरनेट सेवाएं बंद –

शास्त्री नगर, भट्टा बस्ती, रामगंज, आदर्श नगर, सदर थाना, विद्याधरनगर, नाहरगढ़, गलता गेट, माणक चौक, सुभाष चौक, कोतवाली, संजय सर्किल, लालकोठी थाना इलाके में इंटरनेट सेवा की बंद की गई है। बुधवार को सुबह 10 बजे बाद सेवाएं बहाल होंगी।

40 थाना क्षेत्रों का पुसिल जाप्ता तैनात-

तनावपूर्ण हालातों को देखते हुए प्रशासन ने इलाके में 40 थाना क्षेत्रों का पुलिस जाब्ता तैनात किया है। इसके साथ ही आरएसी और एसटीएफ की टुकड़ियां इलाके में तैनात की गई हैं। रेप के मामले में आक्रोशित प्रदर्शनकारी जहां आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। वहीं, वाहनों में तोड़फोड़ करने वालों के खिलाफ लोग भी प्रदर्शन कर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

करीब 100 वाहनों के शीशे तोड़े

घटना से गुस्साए सैंकड़ों लोगों ने सोमवार देर रात को कांवटिया सर्किल पर प्रदर्शन किया। इसके बाद पुलिस ने उन्हें समझाइश कर वापस भेज दिया। लौटते वक्त कुछ उपद्रवी युवकों ने कॉलोनी में सड़क पर खड़े करीब दर्जनों वाहनों के शीशे फोड़ डाले। घरों में पत्थर फेंके। तोड़फोड़ के वक्त कॉलोनी के लोग घरों से बाहर निकले। तब उनसे मारपीट भी की। इससे इलाके में तनाव हो गया और मामला दो समुदायों के बीच हो गया।

इलाके के स्कूलों में छुट्‌टी –

इसके बाद मंगलवार को भी सड़कों पर काफी संख्या में लोग हाथों में डंडे लेकर घूमते नजर आए। सूचना मिलने पर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव सहित पुलिस कमिश्नरेट के अधिकारी और थानों की फोर्स पहुंची। तनाव को देखते हुए इलाके में स्कूलों की छुट्‌टी कर दी गई। कई दुकानदारों ने दुकानें बंद कर दी। वहीं, इस मामले में पुलिस ने करीब एक दर्जन युवकों को पत्थरबाजी के आरोप में हिरासत में लिया है।

बच्ची के परिजनों को पांच लाख की सहायता

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घटना की पूरी जानकारी ली और अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए साथ ही सीएम ने बड़ा फैसला लेते हुए बच्ची के परिजनों को पांच लाख की सहायता की घोषणा की है। सीएम गहलोत ने सभी से शांति बनाए रखने अपील क

चिकित्सा मंत्री ने दुष्कर्म पीड़िता के उचित उपचार के दिए निर्देश

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने दुष्कर्म पीड़ित मासूम का उपचार करने के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिए हैं। उन्होंने बच्ची का समस्त उपचार निशुल्क करने के भी निर्देश दिए हैं। डॉ. शर्मा ने दिल्ली प्रवास के दौरान इस घटना की जानकारी मिलने पर दूरभाष पर जेकेलोन अधीक्षक डॉ.अशोक गुप्ता से बच्ची के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली एवं उन्हें बच्ची के उपचार के लिए सभी आवश्यक प्रबंध करने को कहा।

इधर उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र सिंह राठौड़ ने प्रदेश में बढ़ते अपराधों को लेकर सरकार की आलोचना की। उन्होंने कहा कि शास्त्री नगर में लोग दहशत के माहौल में रह रहे हैं। सड़कों पर कानून की धज्जियां उड़ रही है। बच्ची से दुष्कर्म की घटना के बाद अभी तक अपराधी गिरफ्त से दूर है। अपराध के बाद भी पुलिस ने कानून व्यवस्था नहीं संभाली, ये खेदजनक है।

मासूम के पिता ने बताया कि वह मूलत: बिहार के रहने वाले है। करीब 35 साल से जयपुर में रह रहे है। सोमवार शाम को उनकी बच्ची दुकान से बिस्किट लेने गई थी। इस दौरान बाइक पर आए शख्स ने उसे धमकाया और जबरन बाइक पर बैठा लिया। इस दौरान आरोपित ने बच्ची को चीखने-चिल्लाने पर जान से मार देने की धमकी भी दी। इसके बाद वह उसे शास्त्री नगर पानी की टंकी के पास सुनसान जगह पर ले गया जहां उसने बच्ची से दुष्कर्म किया। बच्ची ने अपने माता-पिता को शरीर पर चोटों के निशान दिखाते हुए बताया कि आरोपित ने उसे बहुत बेहरमी से उसके सिर, पसल्लियों में घूसों से मारा था। इसके बाद आरोपित वहां से फरार हो गया।

पीड़ित मासूम के पिता शास्त्रीनगर की एक मस्जिद में मौलाना है और वहां लोगों को नमाज पढ़ाते है। वह कहते है कि उन्हें किसी पर शक नहीं है, क्योंकि उनकी किसी से भी दुश्मनी ही नहीं है। उन्होंने मेरी बच्ची ठीक हो जाए और आरोपित को पुलिस जल्द से जल्द गिरफ्तार कर उसे कड़ी से कड़ी सजा दिलाए।

Back to top button