देशराजनीति

गोगोई बने देश के 46वें चीफ जस्टिस, याचिका ठुकराई-गाउन बैंड पर लगाई फटकार

Justice Ranjan Gogoi takes oath

नई दिल्‍ली : जस्टिस रंजन गोगोई ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के तौर पर शपथ ले ली। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्‍ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में सुबह 10.45 बजे उन्‍हें देश के चीफ जस्टिस के तौर पर शपथ दिलाई। देश के 46वें चीफ जस्टिस के तौर पर उन्‍होंने जस्टिस दीपक मिश्रा की जगह ली है, जिनका कार्यकाल 02 अक्‍टूबर को समाप्‍त हो गया।

सुप्रीम कोर्ट के जज के तौर पर पिछले 6 साल में कई महत्‍वपूर्ण फैसले दे चुके जस्टिस गोगोई के समक्ष देश के मुख्‍य न्‍यायाधीश के तौर पर अब कई संवेदनशील और विवादास्‍पद मामलों को निपटाने की चुनौती है, जिनमें अयोध्‍या विवाद और असम में राष्‍ट्रीय नागरिक पंजीयन (NRC) का मुद्दा अहम है। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के तौर पर जस्टिस गोगोई का कार्यकाल करीब 13 महीने का होगा। वह 17 नंवबर, 2019 तक इस पद पर रहेंगे।

जस्टिस गोगोई पूर्वोत्‍तर भारत से सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस बनने वाले पहले न्‍यायमूर्ति हैं। उन्‍होंने ऐसे समय में यह जिम्‍मेदारी संभाली है, जबकि असम में एनआरसी का मुद्दा सुर्खियों में है। करीब 40 लाख लोगों के नाम एनआरसी ड्राफ्ट में नहीं हैं और ऐसे में इनके सिर पर देश से बाहर भेजे जाने का खतरा मंडरा रहा है। फिलहाल यह मामला शीर्ष अदालत में है।

रंजन गोगोई का जन्‍म 18 नवंबर, 1954 में असम के डिब्रूगढ़ में हुआ था। उनके पिता केशव चंद्र गोगोई 1982 में असम के 9वें मुख्‍यमंत्री थे। वह कांग्रेस नेता थे और डिब्रूगढ़ विधानसभा क्षेत्र से विधायक भी रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button