देश

UPSC टॉपर्स : पूरे देश में तीसरे नंबर पर बिजनौर के जुनैद, बोले- मेरी कामयाबी के पीछे इंटरनेट

उत्तर प्रदेश के बिजनौर के रहने वाले जुनैद अहमद ने संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ऑल इंडिया में तीसरा रैंक हासिल किया है. जुनैद अपनी सफलता को उपलब्धि नहीं बल्कि जिम्मेदारी समझते हैं, जिसे वे अपने मेहनत से पूरा करना चाहते हैं. एएनआई से बातचीत के दौरान जुनैद ने कहा, “यूपीएससी परीक्षा का आधार तैयार करने के लिए मेरे सीनियर्स ने मुझे कुछ किताबे पढ़ने की सलाह दी, लेकिन इंटरनेट एक ऐसा माध्यम है जो कि आपको बहुत मदद करता है.”

इसके साथ ही जुनैद ने कहा, “आजकल ऑनलाइन सबकुछ उपलब्ध है. इंटरनेट का सही तरह से उपयोग करने से मुझे मदद मिली है. मुझे उम्मीद थी कि लिस्ट में मेरा नाम होगा लेकिन ये कल्पना कभी नहीं की थी कि मुझे तीसरा रैंक मिलेगा.” 27 वर्षीय जुनैद ने हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए कहा, “यहां तक पहुंचने के लिए मुझे पांच साल लगे. 2014 में सबसे पहने मैंने यूपीएससी की परीक्षा दी थी और यूपीएससी परीक्षा 2018 का यह मेरा पांचवा प्रयास था. वहीं पिछले साल मैंने परीक्षा पास की थी और मुझे 352 रैंक मिली, जिसकी बदौलत मैं रिवेन्यू ऑफिसर बना.”

जुनैद ने आगे कहा, “इसके बाद मैंने फैसला किया कि आईएएस अधिकारी बनने के लिए एक प्रयास और करता हूं और यह प्रयास सफल होने के पीछे मेरे पिछले अनुभवों ने बहुत मदद की है. ऑल इंडिया में तीसरी रैंक आना एक उम्मीदवार के लिए बहुत मायने रखता है. अपनी इस कामयाबी पर मैं विश्वास नहीं कर पा रहा.”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जुनैद ने जब सिविल सर्विस की तैयारी करना शुरू किया था तो वे 8 से 10 घंटे पढ़ाई करते थे. जब उन्हें सिविल सर्विस परीक्षा का बेसिक समझ आ गया तो उन्होंने अपनी पढ़ाई का समय 4 घंटे कर दिया था. उनका मानना है कि ज्यादा घंटों की पढ़ाई से फर्क नहीं पड़ता है बल्कि आप कितनी लगन और ध्यानपूर्वक पढ़ाई कर रहे हैं इससे फर्क पड़ता है.

Back to top button