जरा हट के

जोक्स: पोता- ‘दादू आप अभी भी दादी को जानू बोलते हो?’ दादा- ‘वो क्या है कि…’

हेल्लो दोस्तों जोक्स की दुनियां में एक बार फिर से आप सभी का स्वागत हैं. आज के सोशल मीडिया के जमाने में जोक्स हमारी जिंदगी का एक हिस्सा बन गए हैं. फेसबुक और व्हाट्सऐप जैसे प्लेटफार्म पर हमें आए दिन कोई ना कोई जोक्स मिलते रहते हैं. ये हमारी व्यस्त जिंदगी में थोड़ा सा फन जोड़ देते हैं. आज कल हर किसी के ऊपर पढ़ाई या काम का प्रेशर रहता हैं. ऐसे में कुछ लोग इसकी वजह से डिप्रेशन में भी चले जाते हैं. इस स्थिति में जोक्स उनके डिप्रेशन को दूर करने का काम करते हैं. जब भी आपका मूड ऑफ हो या आप दुखी हो तो इन जोक्स को पढ़कर खुद को चीयर कर सकते हैं. इसके लिए आपको किसी पर निर्भर भी नहीं रहना होता हैं. बस अपना मोबाइल खोला और जोक्स की लाइन आपके सामने लग जाती हैं.
इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज हम आपको कुछ ऐसे मजेदार जोक्स बताने जा रहे हैं जिन्हें पढ़ने के बाद आप अपनी लाइफ की कई सारी टेंशन भूला देंगे. तो चलिए देर किस बात की. फटाफट इन मजेदार जोक्स को पढ़ लेते हैं.

सास: भगवान ने तुम्हे दो आँखें दी हैं. चावल से पत्थर नहीं निकाल सकती क्या?
बहू: भगवान ने तुम्हे भी बत्तीस दांत दिए हैं दो चार पत्थर नहीं चबा सकती क्या?

बहू: माँ जी कल रात मेरी उनसे लड़ाई हो गई…
सास: कोई बात नहीं ये हस्बैंड वाइफ के बीच होता रहता हैं.
बहू: वो तो ठीक हैं माँ जी लेकिन अब लाश का क्या करू?

माँ और पत्नी के बीच क्या अंतर हैं?
एक औरत तुम्हे इस दुनियां में रोता हुआ पैदा करती हैं तो दूसरी इस बात का ख्याल रखती हैं कि तुम आगे भी रोते रहो.

सास बहू से: आज से तुम मुझे माँ और अपने ससुर को पापा कहना.
बहू: जी माँ जी. समझ गई.
शाम को जब उसका पति घर आया तो वो बोली – माँ! भैया घर आ गए.

बॉलीवुड स्टाइल में बीमारियाँ… जिया जले जान जले, रात भर धुंआ चले = बुखार
तड़प तड़प के इस दिल से आह निकलती रही = हार्ट अटैक
बीडी जलाइले जिगर से पिया, जिगर में बड़ी आग हैं = एसिडिटी
तुझमे रब दिखता हैं, यारा मैं क्या करूँ = मोतियाबिंद, मन डोले मेरा तन डोले = मिर्गी
जुदा हो के भी टू मुझ में कहीं बाकी हैं = लूज मोशन

बहू अगर नींबू खा रही हो तो जरूरी नहीं कि कोई खुशखबरी हो।
जमाना बदल गया है… हो सकता है वो रात की उतार रही हो।

शादी के बाद पहली बार बहू रसोई मे गई और रेसिपी बुक में पढ़कर खाना बना रही थी ।
सास बाहर से घर लौटी… फ्रिज खोला, अन्दर देखकर चकराई और पूछा:
“ये मन्दिर का घण्टा फ्रिज में क्यों रखा है ?”
बहू : “किताब में लिखा है, सब चीजों का मिश्रण कर लें और एक घण्टा फ्रिज में रखें ।”

Back to top button