क्राइम

महज़ 5 हज़ार के लिए मासूम को उतारा मौत के घाट, अलीगढ कांड पर उबला देश

Image result for अलीगढ मासूम हत्या कांड

आये दिन हो रहे अपराधो को रोकने में पुलिस और प्रसाशन नाकाम से दिख रहे है. माहिलाओ के साथ हर दिन कुछ न कुछ बड़ी घटनाये सामने आती है.  कुछ खबरें ऐसी होती हैं, जिन पर भरोसा करना नामुमकिन सरीखा होता है. ज्यादातर ऐसी खबरें रिश्तों को शर्मसार करने वाली होती हैं, जिनके बारे में जानकर सबका सिर शर्म से झुक जाता है. इस खौफनाक मामला ने लोगो को होश उड़ा दिए. आज जिस मामले की बात हम आपको बताते जा रहे इस  मामले ने  रिश्तो की मन मरियादयो को कलंकित कर दिया.

ये दिल दहला देने वाला मामला यूपी के अलीगढ से सामने आया है यहाँ पैसो के लेन-देन के विवाद में महज ढाई साल की बच्ची की बेरहमी से हत्या किए जाने से पूरे देश को झकझोर कर रख दिया। दो मई को ढाई साल की बच्ची का क्षत विक्षत शव कूड़े के ढेर में मिलने से हड़कंप मच गया था। यह मामला गुरुवार को उस समय फिर सुर्खियों में आ गया जब सोशल मीडिया पर इंसाफ की मांग ने जोर पकड़ा.इस हत्या को लेकर आम आदमी से लेकर फिल्मी सितारे तक इस दरिंदगी पर अपने गुस्से का इजहार किया है.

मिली जानकारी के मुताबिक दरअसल अलीगढ़ के टप्पल थाना क्षेत्र के बूढ़ा गांव में 31 मई को एक बच्ची लापता हो गई थी. बच्ची के परिजनों ने इसे लेकर थाने में रिपोर्ट भी दर्ज करवाई थी. बच्ची के गुमशुदगी के ठीक पांच दिन बाद  कुछ लोगों ने कूड़े के ढेर में कुत्तों के झुंड को एक शव जैसी चीज को नोंचते हुए देखा जिससे तेज दुर्गंध भी आ रही थी. जब लोग नजदीक गए तो पता चला यह उसी मासूम का शव है जो 31 मई को लापता हुई थी. पहले आशंका जताई जा रही थी कि बच्ची से दरिंदों ने पहले हैवानियत की और फिर उसकी हत्या कर दी. हालांकि पुलिस ने रेप की बात से इनकार किया है.

बताते चले इस हालत में शव मिला उसे देखकर लोगो के रौंगटे खड़े हो गए. बच्ची की आंखें बाहर निकली हुई थीं और हाथ शरीर से अलग पड़ा था. मासूम की बरामदगी में हुई देरी की वजह से उसके परिजनों ने अन्य लोगों के साथ मिलकर स्थानीय प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन भी किया.

जानिए इस हत्या पर क्या कहती है पुलिस 

मिली जानकारी के मुताबिक मासूम से साथ बलात्कार की  आशंका को लेकर अलीगढ़ के एसपी आकाश कुलहरी ने कहा है कि बच्ची की हत्या गला दबाकर की गई और उसके साथ बलात्कार नहीं हुआ है. पुलिस के दावे के मुताबिक इस बात का खुलासा पोस्टमार्टम के जरिए हुआ है. पुलिस ने हत्या की वहज  आपसी रंजिश बताया है और इस मामले में 2 लोगों को गिरफ्तार भी किया है. पीड़ित परिवार ने इस मामले में आरोपी की पत्नी और उसके छोटे भाई को भी आरोपी बनाने की मांग की है.

10 हजार रुपये के लेनदेन को लेकर हुआ था विवाद 

पुलिस द्वारा पूछताछ में अभियुक्तों ने पुलिस को बताया कि जाहिद का बच्ची के दादा कन्हैयालाल व चाचा कपिल से 10 हजार रुपये के लेनदेन को लेकर विवाद हुआ था. इसका बदला लेने के लिए उसने अपने दोस्त असलम के साथ मिलकर बच्ची की हत्या की थी. शव को असलम ने भूसे में छिपा दिया था. शव से बदबू आने पर एक जून को शव कचरे के ढेर में फेंक दिया था. अब अलीगढ़ से लेकर पूरे देश में सोशल मीडिया पर लोग इस घटना को लेकर नाराजगी जाहिर कर रहे हैं और हत्यारों को जल्द से जल्द कड़ी सजा दिलाने की मांग कर रहे हैं

 

Back to top button