खेल

हर हिन्दुस्तानी के रौंगटे खड़ा कर देगा धोनी का ये विडियो…

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न में तीसरे एकदिवसीय मैच में नाबाद 87 रनों की पारी खेलने के साथ ही पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने एक खास उपलब्धि हासिल कर ली है। धोनी ऑस्ट्रेलियाई धरती पर एकदिवसीय मैचों में 1000 रन पूरा करने वाले चौथे भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं। धोनी से पहले सचिन तेंदुलकर, वर्तमान कप्तान विराट कोहली और सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं। मेलबर्न एकदिनी में धोनी ने 34 रन बनाते ही ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर एक हजार रन पूरे कर लिये।

बताते चले    टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी सही मायने में क्रिकेट के वैश्विक दूत है। उनकी लोकप्रियता मुंबई से लेकर मेलबर्न तक एक जैसी है। उनके फैन्स दुनिया के हर कोने में मौजूद हैं जो उनकी एक झलक पाने को बेताब रहते हैं। इसी वजह से वो दुनिया के सबसे चहेते क्रिकेट खिलाड़ियों में से एक हैं।

इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि धोनी दुनिया के किस कोने में, किस टीम के लिए और किस मैदान में खेल रहे हों वो मैदान में उपस्थित दर्शकों के सबसे चहते खिलाड़ी होते हैं। मैदान में उनकी एंट्री धमाकेदार अंदाज में होती है और सारा स्टेडियम धोनी-धोनी के नारों से गूंज उठता है। ऐसी ही वाकया भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबर्न में खेले गए सीरीज के तीसरे और आखिरी एकदिवसीय मैच के दौरान भी देखने को मिला।

जीत के लिए 231 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया ने रोहित शर्मा और शिखर धवन के विकेट जल्दी-जल्दी गंवा दिए थे। ऐसे में 59 के स्कोर पर शिखर के आउट होने के बाद जब धोनी बल्लेबाजी करने के ड्रेसिंग रूम से निकलकर बल्लेबाजी करने मैदान पर उतरे तो स्टेडियम में मौजूद तकरीबन 54 हजार दर्शक जिसमें अधिकांश भारतीय है।

धोनी-धोनी की आवाज लगाकर टीम इंडिया को दो बार विश्वकप दिलाने वाले इस दिग्गज खिलाड़ी का उत्साह बढ़ा रहे थे। ऐसा लग रहा था कि मैच मेलबर्न में नहीं मुंबई में हो रहा है। हर कोई धोनी को बल्लेबाजी करते जाने के दृश्य को अपने कैमरे में कैद कर लेना चाहता था।

इसके बाद धोनी ने अपने प्रशंसकों को निराश नहीं किया और अपने जाने-पहचाने अंदाज में बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया को मैच के साथ-साथ सीरीज में भी जीत दिला दी। कंगारुओं के खिलाफ तीन मैचों की सीरीज के दौरान धोनी शानदार फॉर्म में थे। उन्होंने तीन मैचों में 51, 55* और 87* रन की पारी खेलकर टीम इंडिया की जीत में अहम भूमिका अदा की। वो सीरीज में दो बार नाबाद रहे और टीम को जीत दिलाकर ही पवेलियन लौटे। उन्हें इस शानदार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द सीरीज भी चुना गया।

Back to top button