क्राइम

थाने की टेबल पर ले जाकर रख दिया झोला, खोलकर निकाला पत्नी का कटा हुआ सिर

Image result for महिला का कटा सिर

कोलकाता  । उस समय ठीक से सूर्योदय भी नहीं हुआ था। थाने में बैठे पुलिस अधिकारी रात की आगोसी से अभी बाहर भी नहीं निकले थे कि चेहरे पर अजीबोगरीब हावभाव लिए एक युवक थाने में घुसा। उसके हाथ में मध्यम आकार का एक पुराना स्कूल बैग था। गेट के ठीक सामने एक लंबी टेबल के पास कुर्सी पर एएसआई रैंक का एक अधिकारी बैठा हुआ था। स्कूल बैग लेकर थाने में घुस रहे उस युवक को अधिकारी अभी देख ही रहे थे कि उसने तुरंत एएसआई के सामने बैग टेबल पर रख दिया और उसका चैन खोलकर उसमें से एक महिला का कटा हुआ सिर बाल पकड़कर बाहर निकालने लगा। इस विभत्स घटना को जैसे ही थाने के अन्य पुलिसकर्मियों ने देखा, खलबली मच गई।

कुर्सी पर बैठा एसआई रैंक का अधिकारी उठ कर खड़ा हो गया। आसपास के पुलिसकर्मियों को आवाज देकर बुलाने लगा। तुरंत उस युवक को चारों तरफ से घेर लिया गया। हालांकि वह भागा नहीं। उसने महिला का सिर टेबल पर रखा और थाना अधिकारियों से खुद को गिरफ्तार करने की मिनती करने लगा।  यह घटना राजधानी कोलकाता से सटे दक्षिण 24 परगना के सुंदरबन इलाके में स्थित पाथरप्रतिमा थाने की है। सुबह 6:00 बजे के करीब पहुंचे युवक ने पुलिसकर्मियों को बताया कि पारिवारिक विवाद की वजह से हुई लड़ाई में रात के समय उसने पत्नी की पीट-पीटकर हत्या कर दी है। इसके बाद मौत सुनिश्चित करने के लिए उसकी गर्दन धड़ से अलग कर दिया था।
सुबह जब अपराध का अहसास हुआ तो कटे हुए गर्दन को बैग में डाल दिया ताकि पड़ोसियों को खबर नहीं लगे और चुपचाप थाने जा पहुंचा। उसका नाम अभिजीत दास है। गिरफ्तार करने के बाद पुलिस उसे गाड़ी में बैठाकर उसके घर ले गई और उसके बताए अनुसार कमरे में जमीन पर क्षत-विक्षत हालत में पड़ी उसकी पत्नी की लाश को बरामद कर पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया है। उसने किस वजह से इतने निर्मम तरीके से वारदात को अंजाम दिया, इस बारे में पूछताछ की जा रही है। विवाहेतर संबंधों के दृष्टिकोण से भी पुलिस जांच कर रही है। गिरफ्तार शख्स से पूछताछ जारी है। महिला की गर्दन काटने के लिए इस्तेमाल किए गए धारदार हथियार को भी पुलिस ने बरामद कर लिया है।
उल्लेखनीय है कि यह अपनी तरह की पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी राजधानी कोलकाता के मटियाब्रुज इलाके में एक युवक अपनी बहन का सिर काट कर उसे हाथ में लेकर थाने जा पहुंचा था।
Back to top button