उत्तर प्रदेशख़बर

अवैध खनन केस में घिरे अखिलेश, सीबीआई कर सकती है सवाल-जवाब ?

Image result for अवैध खनन मामले में अब अखिलेश यादव से पूछताछ कर सकती है CBI

करोड़ों के खनन घोटाले के मामले में शनिवार को सीबीआई की टीम ने चर्चित आईएएस अधिकारी बी. चन्द्रकला के लखनऊ आवास पर छापा मारा। आईएएस अधिकारी के अलावा सीबीआई ने इस मामले में लखनऊ, कानपुर, हमीरपुर, जालौन, नोएडा और दिल्ली समेत 12 जगहों पर छापेमारी की कार्रवाई की है।

सीबीआई ने जालौन के उरई में भी बालू घाट संचालकों के प्रतिष्ठानों पर छापा मारा है। यह कार्रवाई शुक्रवार देर रात से जारी है। सीबीआई का यह छापा हाईकोर्ट इलाहाबाद के आदेश पर मारा गया है। शनिवार को सीबीआई अधिकारियों ने बी. चंद्रकला के लखनऊ में योजना भवन के समीप स्थित सफायर अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 101 में छापा मारा की गयी है। घर के अंदर मौरंग कारोबार से सम्बन्धित रिकार्ड खंगालने में जुटी है। इसके अलावा सीबीआई द्वारा हमीरपुर के एमएलसी रमेश मिश्रा, गहरौली में संजय दीक्षित के भाई राकेश दीक्षित, मौदहा कस्बे में भी छापमेमारी की कार्रवाई जारी है।

अवैध रेत खनन मामले में बसपा नेता सत्यदेव दीक्षित और सपा एमएलसी रमेश मिश्रा के आवासों पर भी छापेमारी की गई। सीबीआई सूत्रों के अनुसार, सरकारी अधिकारियों समेत 11 लोग इसमें शामिल थे। सीमित अवधि के लिए प्रतिबंध था, हालांकि सरकार के अधिकारियों ने प्रतिबंध अवधि के दौरान भी खनन की अनुमति दी।

सीबीआई सूत्रों के अनुसार, ‘आदिल खान, बी चंद्रकला, तत्कालीन खनन अधिकारी मोइनुद्दीन, सपा एमएलसी रमेश मिश्रा और उनके भाई, खनन लिपिक राम आश्रय प्रजापति, अंबिका तिवारी (हमीरपुर), खनन क्लर्क अवतार सिंह और उनके रिश्तेदार और संजय दीक्षित आरोपी हैं।’

सीबीआई का कहना है कि 2012 से 2013 तक अखिलेश यादव खनन मंत्री थे। उस दौर में जो भी मंत्री थे, उनकी भूमिका की जांच होगी। अखिलेश यादव 2012 से 2017 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। इलाहाबाद हाई कोर्ट के निर्देश पर सीबीआई मामले की जांच कर रही है। चंद्रकला हमीरपुर और बुलंदशहर की डीएम रह चुकी हैं और उन पर डीएम रहते हुए अवैध खनन कराने का आरोप है।  चंद्रकला लखनऊ में योजना भवन के पास सफायर अपार्टमेंट में रहती हैं।

चंद्रकला पर आरोप है जब  उनकी पोस्टिंग हमीरपुर जिले के जिलाधिकारी (डीएम) के रूप में की गई थी तो उस दौरान उन्होंने मौरंग के 50 खनन पट्टे आवंटित किए थे, जबकि इसके लिए पहले टेंडर देने का नियम था। इन अवैध खनन पट्टों को लेकर स्थानीय लोगों ने बड़ा प्रदर्शन भी किया था।

चंद्रकला भ्रष्टाचार के खिलाफ अपने अभियानों के लिए सोशल मीडिया पर बेहद लोकप्रिय हैं। उनके कई वीडियो सोशल मीडिया पर अक्सर वायरल होते रहे हैं। उनके फेसबुक पेज पर 85 लाख से ज्यादा लाइक्स हैं।

Back to top button