देश

मोदी के शपथ ग्रहण में इस पड़ोसी राष्ट्रपति ने शामिल होने से किया मना, बताई ये वजह

गुरुवार को राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल का शपथ ग्रहण समारोह होगा. पीएम मोदी की शपथ देखने के लिए बे ऑफ़ बंगाल इनिशिएटिव फ़ॉर मल्टी-सेक्टरल टेक्निकल एंड इकनॉमिक कोऑपरेशन (BIMSTEC) देशों के नेताओं को आमंत्रित किया जाएगा. बता दें कि बांग्लादेश, भारत, श्रीलंका, थाइलैंड, म्यांमार, नेपाल और भूटान BIMSTEC के सदस्य है. इनके अलावा किर्गिज़ गणराज्य और मॉरीशस के नेताओं को भी शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया गया है.

लेकिन बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना लगातार दूसरी बार इस समारोह में सामिल नहीं हो पाएंगी क्योंकि उस समय वह तीन देशों की विदेश यात्रा पर रहेंगी. लिबरेशन वॉर अफेयर्स मिनिस्टर एकेएम मोजम्मल हक बांग्लादेश सरकार के वरिष्ठतम कैबिनेट सदस्य के रूप में इस समारोह में शामिल होंगे.

इसके अलावा, तमिल सिनेमा के टॉप स्टार – रजनीकांत और कमल हासन को भी भव्य आयोजन के लिए आमंत्रित किया गया है, जो राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को केंद्रीय मंत्रिपरिषद के पद और गोपनीयता की शपथ दिलाते हुए भी देखेंगे. तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव और आंध्र प्रदेश के भावी सीएम वाईएस जगन मोहन रेड्डी के भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने की संभावना है.

2014 में, नरेन्द्र मोदी ने अपने शपथ ग्रहण समारोह के लिए पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ सहित सभी सार्क नेताओं को आमंत्रित किया था. 2014 में राष्ट्रपति भवन के फोरकोर्ट में लगभग 2,000 लोगों के साथ शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया गया था.

Back to top button