देश

Go कोरोना Go: गांव के चारों तरफ लगाई दूध की धार, बोले- अब हम सुरक्षित हैं!

जयपुर. ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना से बचाव के लिए ग्रामीणों की ओर से अलग-अलग दावे किए जा रहे हैं। कोरोना के डर के चलते गांव के चारों तरफ कभी रक्षा सूत्र तो कभी दूध की धार खींचने का क्रम जारी है। राजस्थान के पाली जिले में भी ऐसे कई मामले सामने आए हैं। यहां के खारड़ा, आकेली के बाद अब तखतगढ़ क्षेत्र के जाणा गांव के ग्रामीणों ने शनिवार को गांव के चारों तरफ दूध की धार लक्ष्मण रेखा खींची।

ग्रामीणों का कहना हैं कि सालों से धार्मिक मान्यता चली आ रही है। उसी के तहत दूध की धार गांव के चारों तरफ खींची। ग्रामीणों का कहना हैं कि ऐसा करने से गांव में कोरोना या अन्य कोई महामारी प्रवेश नहीं करेगी।

कोरोना की दूसरी लहर में पाली जिले में काफी मौतें हुई। जिले में अब हालात सामान्य कहे जा सकते हैं, लेकिन पहले हालत यह थी कि बांगड़ अस्पताल का कोरोना आउटडोर मरीजों से भरा पड़ा रहता था। अस्पताल में मरीजों को बेड नहीं मिल पा रहे थे। कोरोना से मरते लोगों को ग्रामीणों को भयभीत कर दिया। इसके चलते जाणा गांव के ग्रामीणों ने गांव के चारों तरफ दूध से लक्ष्मण रेखा खींचने का काम किया।

मंदिर में पूजा फिर लगाई परिक्रमा
ग्रामीणों ने शनिवार को नारियल की ज्योत के साथ देवी मंदिर में पूजा अर्चना की। उसके बाद नारियल की ज्योत के साथ गांव के चारों तरफ परिक्रमा लगाते हुए 11 लीटर दूध से धार लगा लक्ष्मण रेखा बनाई। इसमें गांव के श्मशान क्षेत्र को अलग रखा।

Back to top button