ख़बरदेश

बीजेपी के थीम सॉन्ग पर चुनाव आयोग ने लगाया बैन, आखिर क्यों ?

शनिवार को चुनाव आयोग ने संगीतकार और आसनसोल से सांसद बाबुल सुप्रियो द्वारा कंपोज़ किए गए भारतीय जनता पार्टी के थीम सॉन्ग को बैन क दिया. चुनाव आयोग के निर्देश के बाद बीजेपी अब अपने इस थीम सॉन्ग को कहीं भी नहीं बजा सकती. दरअसल पार्टी ने इस थीम सॉन्ग को जगह-जगह बजाने के लिए मीडिया सर्टिफिकेशन और मॉनिटरिंग कमेटी (एमसीएमसी) से इजाजत नहीं ली, जो कि आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है.

चुनाव आयोग ने कहा, “सबसे पहले तो यह बता दें कि यह थीम सॉन्ग प्री-सर्टिफाइड नहीं था और इसे लेकर हमने चुनाव आयोग को सूचित भी किया था. इसके साथ ही यह भी बता दें कि इस गाने को कई जगहों पर बजाया जा रहा है, जिसके बाद इसे बैन करने के निर्देश दिए गए हैं.”

बता दें कि पिछले महीने चुनाव आयोग ने केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो को ‘कारण बताओ’ नोटिस भेजा था, जिसमें उनसे पूछा गया था कि सोशल मीडिया पर बंगाल के लिए भारतीय जनता पार्टी के प्रचार गीत का वीडियो जारी करने से पहले उन्होंने आयोग से अनुमति क्यों नहीं ली.

निर्वाचन आयोग के ‘कारण बताओ’ नोटिस का बाबुल सुप्रियो ने जवाब दिया था, जिसके बाद चुनाव आयोग ने उनके जवाब पर विचार करने की बात कही थी. इसके साथ ही बाबुल सुप्रियो पर एक एफआईआर भी दर्ज कराई गई थी, जिसमें उनपर आरोप लगाए गए थे कि उन्होंने गाने के जरिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस पर आपत्तिजनक टिप्पणी की है.

चुनाव आयोग द्वारा लगाए गए बैन को लेकर बाबुल सुप्रियो ने कहा कि इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है, लेकिन टीवी पर इस बारे में सुना है. बाबुल सुप्रियो ने कहा, “दरअसल गाने की पॉपुलैरिटी को लेकर विरोधी डर गए हैं, इसीलिए मुझ पर प्राथमिकी दर्ज कराई गई.” उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी की ओर से इस मामले को लेकर देखा जा रहा है.

साथ ही उन्होंने कहा कि जो भी शब्द इस गाने में प्रयोग किया गया है वह सभी जानते हैं और वो लोगों का नारा है. ममता बनर्जी की चप्पल से लेकर जो भी शब्द इस गाने में इस्तेमाल किए गए हैं , सब कुछ सही हैं.

 

Back to top button