धर्म

रात में क्यों अकेले नहीं छोड़नी चाहिए लाश, पीछे का कारण है खौफनाक

मृत्यु अटल होती है, लेकिन फिर भी इस संसार में कोई व्यक्ति मरना नहीं चाहता है! कहते है मृत्यु के बाद आत्मा अजर और अमर होती है! केवल व्यक्ति के शरीर का ही नाश होता आत्मा को ना ही कोई मार सकता है और न ही वह मर सकती है! लेकिन अक्सर यह देखा गया है रात में यदि आपके घर में कोई व्यक्ति मर जाता है तो भी व्यक्ति उस लाश को अकेले नहीं छोड़ता है! अक्सर आप कभी भी किसी शव यात्रा को देखते होंगे तो आपके मन में यही खयाल आता है कि आखिर मरने के बाद व्यक्ति i आत्मा का क्या होता है!

लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे है कि किसी भी व्यक्ति की मौत होने के बाद उसकी लाश को अकेले क्यों नहीं छोड़ना चाहिए! आप सभी तो जानते होंगे कि मौत के बाद जो क्रिया की जाती है उसे अंतिम संस्कार कहते है! और आप सभी यह भी जानते होंगे कि किसी भी व्यक्ति का अंतिम संस्कार कभी भी रात में नहीं किया जाता है! दोस्तों अगर कोई व्यक्ति रात के समय में मर जाता है तो आप उसका अंतिम संस्कार रात में नहीं कर सकते है,और आप शमशान घाट नहीं जा सकते है!

हिन्दू समाज में अगर कोई व्यक्ति रात या शाम के समय मरता है तो सुबह होने का सभी इन्तजार करते है! और व्यक्ति शव को घर में ही रखते है! लगभग सभी लोग भी यही करते है! लेकिन आपने शव को घर में रक्खा हुआ है तो उसकी रखवाली भी करनी पड़ती है!लेकिन कारण जानने के बाद आपको विशवास हो जाएगा की यह कोई मजाक की बात नहीं है!

शास्रो के अनुसार अगर किसी भी व्यक्ति की मौत शाम को हो जाती है तो उस व्यक्ति के शरीर को आदर के साथ तुलसी के पेंड के पास रखना चाहिए!क्यों कि उसकी आत्मा वन्ही पर ही भटकती रहती है! और आप सभी को देखती भी रहती है! और मरने के बाद शरीर खाली हो जाता है! और उस पर कोई भी बुरी आत्मा अपना कब्ज़ा कर सकती है! इसी कारण से शव के पास कुछ लोगो का होना जरुरी है!

Back to top button