देशराजनीति

सर्वे Live: एनडीए की बनेगी सरकार, कांग्रेस रह गयी पीछे 

नई दिल्लीः 2019 लोकसभा चुनावों की आहट सुनाई आने लगी है. राफेल के मुद्दे पर विपक्ष सरकार को घेरने का कोई मौका छोड़ नहीं रहा है और केंद्र की मोदी सरकार इस समय चौतरफा घिरी हुई है. हालांकि कांग्रेस पार्टी महागठबंधन के जरिए मोदी सरकार को 2019 में पछाड़ने के लिए तैयार होती दिख रही है लेकिन एकता के अभाव में महागठबंधन की सही तस्वीर भी अभी सामने नहीं आई है. ऐसे में अगर आज चुनाव होते हैं तो देश के लोगों का मूड क्या रहेगा और किसको मिलेगी सत्ता की चाबी इसके लिए एबीपी न्यूज़ ने सी वोटर के साथ मिलकर सर्वे किया है.

LIVE UPDATAES

 

अभी चुनाव होते हैं तो किसकी बन सकती है सरकार

अभी चुनाव हुए तो किसे कितनी सीट ?

मौजूदा गठबंधन के हिसाब से
एनडीए- 276
यूपीए- 112
अन्य- 155

देश में अगर अभी चुनाव हो जाते हैं तो इस समय भी एनडीए की ही सरकार बनती दिख रही. एनडीए को 276 सीटें मिलने की संभावना बन रही है लिहाजा एनडीए को लोकसभा चुनाव में बहुमत मिलता दिख रहा है. मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के लिए अभी भी अच्छी खबर नहीं है और इसे कुल 80 सीटें मिलने का अनुमान सर्वे में आया है. इसी तरह यूपीए के खाते में कुल 112 सीटें जाती दिख रही हैं. अन्य को 155 सीटें मिलने का अनुमान है.

अभी चुनाव हुए तो किसको कितना वोट प्रतिशत

दक्षिण भारत- कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, आंध्र, तेलंगाना

एनडीए- 38 %

 

यूपीए- 25 %

 

अगर अभी लोकसभा चुनाव होते हैं तो एनडीए को 38 फीसदी वोट मिल सकते हैं और यूपीए को कुल वोट प्रतिशत में से 25 फीसदी वोट मिल सकते हैं. साल 2014 के लोकसभा चुनावों में एनडीए को 40 फीसदी वोट मिले थे और यूपीए के हिस्से

 

2014 में

 

एनडीए- 40%

 

यूपीए- 24 %

दक्षिण भारत के राज्यों में किसके हाथ लगेगी बंपर जीत

दक्षिण भारत- कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, आंध्र, तेलंगाना
कुल सीट- 129
एनडीए- 21
यूपीए- 32
अन्य- 76

दक्षिण भारत में पिछले कुछ समय से बीजेपी ने किसी राज्य में अपना जनाधार बढ़ाया है और कहीं-कहीं अपनी पकड़ खोई है. दक्षिण भारत में कुल 5 राज्य कर्नाटक, केरल, तमिलनाड, आंध्र, तेलंगाना हैं और यहां लोकसभा की कुल 129 सीटें हैं. यहां से यूपीए के लिए अच्छी खबर आ रही है और इस गठबंधन को 129 में से 32 सीटें मिलती दिख रही हैं. एनडीए के खाते में सिर्फ 21 सीटें जाती दिख रही हैं और सबसे ज्यादा 76 सीटें अन्य के हिस्से आ सकती हैं.

दिल्ली में किसके हाथ लगेगी सबसे ज्यादा सीटें

दिल्ली
एनडीए- 7
यूपीए- 0

देश की राजधानी दिल्ली से एनडीए के लिए सबसे अच्छी खबर आ रही है और अगर आज यहां लोकसभा चुनाव हुए तो एनडीए को राज्य की पूरी 7 में से 7 सीटें मिल सकती हैं. यहां यूपीए के लिए बेहद खराब स्थिति हो सकती है और उसके खाते एक भी सीट आती हुई नहीं दिख रही है.

हरियाणा में किसके खाते जीत, किसे मिलेगी मात

हरियाणा
कुल सीट- 10
यूपीए- 3
एनडीए- 6
अन्य- 1

हरियाणा में अगर अभी चुनाव हुए तो यहां की 10 सीटों में से एनडीए के हाथ 6 सीटें लग सकती हैं और यूपीए को 3 सीटों पर कब्जा मिल सकता है. इसके अलावा अन्य के खाते में 1 सीट ही जा सकती है.

पंजाब में क्या रहेगा सियासी समीकरण

पंजाब
कुल सीट- 13
यूपीए- 12
एनडीए- 1

पंजाब में अभी चुनाव हुए तो वहां एनडीए को भारी झटका लग सकता है और राज्य की कुल 13 सीटों में से एनडीए के हाथ सिर्फ 1 सीट लग सकती है. पंजाब में इस समय कांग्रेस की ही सरकार है और वहां यूपीए को भारी सफलता मिल सकती है और ये गठबंधन लोकसभा सीटों में से 12 सीटों पर कब्जा जमा सकता है.

पूर्वोत्तर के राज्यों में किसके हाथ लगेगी बंपर जीत

पूर्वोत्तर – असम, अरुणाचल, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा
कुल सीट – 25
एनडीए- 18
यूपीए -6
अन्य- 1

अगर अभी लोकसभा चुनाव हुए तो पूर्वोत्तर के 8 राज्यों असम, अरुणाचल, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा में मौजूद कुल 25 सीटों में से एनडीए को भारी जीत मिलती दिख रही है और इसे 18 सीटें मिलती दिख रही हैं. इसके अलावा यूपीए के खाते में 6 सीटें और अन्य के हिस्से 1 सीट जाती दिख रही है.

ओडिशा में क्या रहेगा सियासी हाल

ओडिशा – पीएम के जहां से लड़ने की चर्चा है वहां क्या होगा ?
कुल सीट- 21
बीजेपी-13
बीजेडी-6
कांग्रेस- 2

2019 के चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ओडिशा से लड़ने की बात कही जा रही है और अगर ऐसे में यहां इस समय लोकसभा चुनाव हुए तो बीजेपी को फायदा मिलता दिख रहा है. ओडिशा की कुल 21 सीटों में से बीजेपी बंपर 13 सीटें जीतती दिख रही है और कांग्रेस 2 सीटों पर सिमटती दिख रही है. इसके अलावा यहां की प्रमुख पार्टी बीजेडी को सिर्फ 6 सीटेंही मिलती दिख रही है.

महाराष्ट्र में किसके हाथ लगेगी बाजी

महाराष्ट्र- कांग्रेस, एनसीपी, बीजेपी, शिवसेना अलग लड़े तो ?
कुल सीट- 48
बीजेपी- 22
शिवसेना- 7
कांग्रेस-11
एनसीपी- 8

महाराष्ट्र में अगर कोई भी पार्टी साथ नहीं आती और यहां कांग्रेस, एनसीपी, बीजेपी, शिवसेना अलग लड़े तो कुल 48 सीटों में से बीजेपी को फायदा हो सकता है और इसे सबसे ज्यादा 22 सीटें मिल सकती हैं. कांग्रेस के हाथ 11 सीटें आ सकती हैं, शिवसेना और एनसीपी को क्रमशः 7 और 8 सीटें मिल सकती हैं.

महाराष्ट्र – एनसीपी+कांग्रेस और शिवसेना+बीजेपी तो कैसी रहेगी स्थिति?
कुल सीट- 48
एनडीए- 36
यूपीए- 12

महाराष्ट्र में एनसीपी, कांग्रेस साथ आ जाएं और शिवसेना-बीजेपी मिलकर चुनाव लड़ें तो यहां एनडीए को इसका फायदा मिलता दिखाई दे रहा है. एनडीए को 48 में से 36 सीटें मिल सकती हैं और यूपीए को सिर्फ 12 सीटों से संतोष करना पड़ सकता है.

महाराष्ट्र- एनसीपी, कांग्रेस साथ और शिवसेना अकेले तो क्या ?
कुल सीट- 48
यूपीए- 30
एनडीए- 16
शिवसेना- 2

महाराष्ट्र के हालात बेहद दिलचस्प हैं और यहां एक स्थिति ये बन सकती है कि एनसीपी, कांग्रेस साथ आ जाएं और शिवसेना अकेले चुनाव लडे. इस स्थिति में महाराष्ट्र की कुल 48 लोकसभा सीटों में से यूपीए को 30 सीटें मिल सकती हैं और एनडीए को भारी नुकसान हो सकता है और उसे सिर्फ 16 सीटों पर जीत हासिल हो सकती है. शिवसेना को अकेले लड़ने का नुकसान होगा और इसको सिर्फ 2 सीटें मिल सकती हैं.

राजस्थान में किसे मिलेंगी ज्यादा लोकसभा सीटें

राजस्थान
कुल सीट- 25
एनडीए -18
यूपीए- 7

राजस्थान में भी बीजेपी का प्रभुत्व कई सालों से देखा जा रहा है और अगर इस समय यहां लोकसभा चुनाव होते हैं एनडीए के खाते में 18 सीटें जा सकती हैं और यूपीए को 7 सीटें मिल सकती हैं.

छत्तीसगढ़ में किसके हाथ लगेंगी ज्यादा सीटें

छत्तीसगढ़
कुल सीट- 11
एनडीए 9
यूपीए-2

इस समय छत्तीसगढ़ विधानसभा में बीजेपी की सरकार है और इस समय वहां लोकसभा चुनाव होते हैं तो यहां की कुल 11 सीटों में में से एनडीए 9 सीटों पर जीत सकती है और यूपीए को सिर्फ 2 सीटों से संतोष करना पड़ सकता है.

मध्य प्रदेश में क्या रहेगा सियासी समीकरण

मध्य प्रदेश
कुल सीट- 29
एनडीए- 23
यूपीए- 6

बीजेपी के गढ़ मध्य प्रदेश में लोकसभा की कुल 29 सीटे हैं अगर अभी चुनाव होते हैं तो यहां एनडीए को 23 सीटें और यूपीए को 6 सीटें मिल सकती हैं.

बिहार में क्या रहेगा सियासी हाल

बिहार – लोकजनशक्ति पार्टी और आरएलएसपी यूपीए में गई तो ?
कुल सीट- 40
एनडीए- 22
यूपीए- 18

बिहार में लोकसभा की कुल 40 सीटें हैं और यहां लोकजनशक्ति पार्टी और उपेंद्र कुशवाहा की आरएलएसपी यूपीए में गई तो एनडीए के खाते में 22 सीटें जा सकती हैं और यूपीए को कुल 18 सीटें मिल सकती हैं.

बिहार- अगर मौजूदा एनडीए बना रहा तो ?
कुल सीट- 40
एनडीए- 31
यूपीए- 9

बिहार में अगर एनडीए मौजूद स्वरूप में बना रहा तो एनडीए को 31 सीटें मिल सकती हैं और यूपीए के हिस्से कुल 9 सीटें आ सकती हैं.

उत्तर प्रदेश में क्या रहेगा सियासी समीकरण

यूपी- मायावती अकेले लड़ती है तो क्या होगा ?
कुल सीट- 80
मोदी -70
राहुल-2
अन्य- 8

उत्तर प्रदेश में लोकसभा की कुल 80 सीटें हैं और 2014 में बीजेपी ने यहां 73 सीटों के साथ परचम लहराया था. अगर बीएसपी प्रमुख यूपी में मायावती अकेले चुनाव लड़ती है तो यहां कुल 80 सीटों में से बीजेपी के हाथ 70 सीटें लग सकती हैं और राहुल गांधी की कांग्रेस को सिर्फ 2 सीटों से संतोष करना पड़ सकता है. अन्य जिसमें एसपी-बीएसपी पार्टियां शामिल हैं उनके हाथ 8 सीटें लग सकती हैं.

यूपी- एसपी बीएसपी साथ, कांग्रेस अलग तो क्या ?
कुल सीट- 80
बीजेपी -36
कांग्रेस – 2
महागठबंधन-42

सर्वे के मुताबिक अगर यूपीए में एसपी-बीएसपी साथ आते हैं और कांग्रेस अलग जाती है तो बीजेपी के हाथ सिर्फ 36 सीटें लग सकती हैं और कांग्रेस के हाथ 2 सीटें लग सकती हैं. महागठबंधन के हाथों 42 सीटें आ सकती हैं. इस तरह अभी चुनाव हो तो यूपी में बीजेपी को भारी नुकसान हो सकता है क्योंकि 2014 के चुनावों में यहां बीजेपी को 73 सीटें हाथ लगी थीं.

यूपी- कांग्रेस महागठबंधन में शामिल होती है तो ?
कुल सीट- 80
बीजेपी 24
कांग्रेस -56

सर्वे के मुताबिक अगर कांग्रेस यूपी में महागठबंधन में शामिल होती है कुल 80 सीटों में से नरेंद्र मोदी की बीजेपी को सिर्फ 24 सीटों से संतोष करना पड़ सकता है और राहुल गांधी की कांग्रेस 56 सीटों पर कब्जा जमा सकती है.

कैसे हुआ सर्वे?
ये सर्वे अगस्त के आखिरी हफ्ते से लेकर सितंबर के आखिर हफ्ते तक किया गया है. ये सर्वे देश भर में सभी 543 लोकसभा सीटों पर किया गया है और 32 हजार 547 लोगों की राय ली गई है.

Back to top button