राजनीति

अब तो कहीं के नहीं रहेंगे गुरु ! ‘बगावत’ पर पैदल करने की तैयारी में कांग्रेस

पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. जानकारी के मुताबिक कांग्रेस आलाकमान ने नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी पत्नी नवजोत कौर के पंजाब कांग्रेस के नेताओं और मुख्‍यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ दिए गए बयानों की वीडियो क्लिप और पूरी रिपोर्ट मांगी है. जानकार सिद्धू की कुर्सी खतरे में बता रहे हैं.

पंजाब कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और मैनेजमेंट कमेटी के चेयरमैन लाल सिंह ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ पूरे मामले की रिपोर्ट आलाकमान को भेजेंगे. कांग्रेस के कई विधायक और पंजाब सरकार के कई मंत्री भी नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक राणा गुरजीत ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू के बयान से कांग्रेस को भारी नुकसान हुआ है. इतना ही नहीं, सीएम कैप्टेन अमरिंदर सिंह की पत्नी और पटियाला से लोकसभा प्रत्याशी परनीत कौर और पार्टी के राज्य कैंपेन कमेटी के प्रमुख लाल सिंह ने भी सिद्धू के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

इसी तरह से पंजाब सरकार में मंत्री त्रिपत राजेंद्र सिंह बाजवा, भारत भूषण आशु, श्याम सुंदर अरोड़ा और राना गुरमीत सिंह सोढ़ी ने सिद्धू को निशाने पर लिया. बाजवा ने कहा, ‘अगर सिद्धधू को कैप्टन अमरिंदर की लीडरशिप पर भरोसा नहीं है तो उन्हें पद छोड़ देना चाहिए. अगर वह नैतिक तौर पर इतने मजबूत हैं तो अपनी कुर्सी से चिपके क्यों हुए हैं और ऐसे शख्स के साथ काम कर रहे हैं जिस पर वह विश्वास नहीं करते.’ बाजवा ने सिद्धू को पैराशूट लीडर बता डाला और कहा कि उन्हें संगठन के निर्माण का कोई अनुभव नहीं है.

बता दें कि सिद्धू के आरोपों पर अमरिंदर ने भी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि शायद सिद्धू की नजर सीएम की कुर्सी पर है.

 

Back to top button