ख़बरदेशराजनीति

माया और अखिलेश को कांग्रेस का जबाब, यूपी में कर देंगे हैरान…

gulam nabi azad

लखनऊ। सपा-बसपा गठबंधन में शामिल न होने के बाद कांग्रेस नेताओं ने अपनी रणनीति बनाई शुरू कर दी है। इसी के तहत रविवार को पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने बैठक की। जिसमें यूपी में आगामी लोकसभा चुनाव में सभी 80 सीटों पर अकेले लड़ने के घोषणी की गयी। इस बैठक में प्रदेश कांग्रेस प्रभारी व राज्यसभा सदस्य गुलाम नबी आजाद, प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर समेत प्रदेश के कई शीर्ष नेता मौजूद थे।

नतीजे चौंकाने वाले होंगे-आजाद

मीडिया से बात करते हुए गुलाम नबी आजाद ने कहा कि हम कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में पूरी शक्ति से अपनी विचारधारा का पालन करते हुए यह चुनाव लोकसभा लड़ेंगे और भाजपा को पराजित करेंगे। हम उत्तर प्रदेश की सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। हमारी तैयारी पूरी है। नतीजे चौंकाने वाले होंगे। आजाद ने कहा कि दुनिया जानती है कि संसद की लड़ाई भाजपा और कांग्रेस के बीच है। अगर कोई हमारे साथ आता है तो हम स्वागत करते हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में तो बसपा व सपा ने चैप्टर ही बंद कर दिया है। गठबंधन फाइनल करने से पहले कम से कम हमसे बात तो कर लेते।

congress leader Ghulam Nabi Azad attak on PM Modi

जनता जानती है, हमने गठबंधन नहीं तोड़ा– आजाद

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जनता जानती है कि हमने गठबंधन नहीं तोड़ा। हमने पहले ही कहा था कि उन सभी पार्टियों से बात करने के लिए तैयार हैं, जो भाजपा को हराना चाहती हैं। लेकिन हम किसी पर दबाव नहीं डाल सकते। सपा-बसपा ने इसे समाप्त कर दिया, अब हम भाजपा को हराने के लिए अकेले चुनाव लड़ेंगे।

जब होगा देखा जाएगा

वहीं, ये पूछने पर कि सपा-बसपा गठबंधन ने अमेठी व रायबरेली में कोई प्रत्याशी न खड़ा करने का फैसला किया है तो क्या कांग्रेस जहां से मायावती व अखिलेश यादव चुनाव लड़ेंगे वहां अपने प्रत्याशी उतारेगी… पर आजाद ने जवाब दिया कि अभी ये ही तय नहीं है कि अखिलेश व मायावती चुनाव लड़ेंगे या नहीं। जब होगा देखा जाएगा। इस दौरान आजाद ने पीएम नरेन्द्र मोदी व भाजपा पर जमकर निशाना भी साधा।

शनिवार को मायावती ने की थी गठबंधन की घोषणा

इससे पहले शनिवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमों मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर गठबंधन का ऐलान किया था। उप्र में दोनों पार्टियां 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी। हालांकि, मायावती ने कहा था कि वे कांग्रेस से गठबंधन किए बिना भी उनके लिए अमेठी और रायबरेली सीट पर प्रत्याशी नहीं उतारेंगे। अमेठी से राहुल गांधी और रायबरेली से सोनिया गांधी सांसद हैं।

Back to top button