नौकरी

इंटरव्यू में पूछे गए ऐसे-ऐसे सवाल, तीनों ने दिए गजब लाजवाब, आज ये सब हैं IPS

सिविल सर्विस एग्‍जाम में सक्‍सेस पाना ज्‍यादातर युवाओं का सपना है। पिछले वीडियो में मैने आपको बताया था कि आईएएस या आईपीएस कैसे बनें। अब इस वीडियो में जानिए कि सिविल सर्विस एग्‍जाम के इंटरव्‍यू में किस तरह के सवाल पूछे जाते हैं और कितनी एक्टिवली आपको उनके जवाब देने हैं। तो पेश है आईपीएस अधिकारी अनुराग वत्‍स, श्‍लोक कुमार और कुंवर अनुपम से पूछे गए क्‍वेश्‍चन और उनके एंसर –

अनुराग वत्‍स 2013 बैच के आईपीएस ऑफिसर हैं और मूलत: गाजियाबाद के मुरादनगर के रहने वाले हैं। उन्‍होंने पहले ही प्रयास में यह टफ एग्‍जाम क्‍लीयर कर लिया। उनका मानना है कि इंटरव्‍यू में आपके एजुकेशन, ग्रेजुएशन क्या किया, हॉबी आदि के क्‍वेश्‍चन पूछे जाते हैं। जानिए इंटरव्‍यू के सवाल जवाब –

सवाल – एक घंटे तक 10 स्‍क्‍वायर मीटर में बारिश हुई तो कितना पानी स्‍टोर होगा?
जवाब – मुझे नहीं पता।
(यह ऊटपटांग सवाल जानबूझकर पूछा गया था। ताकि कैंडीडेट नर्वस हो जाए। अगर अनुमानित गलत जवाब दिया जाता तो नर्वस हो सकता था। ऐसे में जब अधिकारी नर्वस हो जाएगा तो वह फील्‍ड में कमांड नहीं कर पाएगा।)

सवाल – आप डैम बनाने जाएंगे ट्राइबल्स माइग्रेट होंगे, वे नहीं मानेंगे। तो कैसे डैम बनेगा?
जवाब – इंप्लीमेंटेशन का डिसीजन लेने से पहले ही वहां के लोगों से मिलना चाहिए। उन्‍हें बताना होगा कि डैम से इतने लोगों को पानी मिलेगा, व्यवसाय मिलेगा।

सवाल – क्या वे लोग इतने अक्लमंद हैं कि वे समझेंगे?
जवाब – ह्यूमन के अंदर टेंडेंसी होती है कि किसी काम से क्या नुकसान है और क्या फायदा है। अगर नुकसान से ज्यादा फायदे हैं, तो फेथ जरूर आएगा। यह बात जो भी अधिकारी या व्‍यक्ति समझाने जाएं उनकी विश्वसनीयता होनी चाहिए, तो आदिवासी लोग बांध जरूर बनने देंगे। अगर जबरदस्ती हटाकर बांध बनाने की कोशिश होगी तो न विश्वास जीत पाएंगे और न भला कर पाएंगे।

सवाल – नक्‍सल समस्‍या को कैसे खत्‍म किया जा सकता है?
जवाब – दो तरीके से। पहला कि इन क्षेत्रों में एक समानांतर डवलपमेंट का लेवेल लाना होगा। ताकि उनका फेथ जीत सकें और सरकार पर विश्‍वास पैदा हो। बताना होगा कि सिस्टम का पार्ट बनेंगे, उससे फायदा होगा। दूसरा कि जो लोग सिस्टम को नहीं मानते हैं, उन्हें एलिमनेट भी करना पड़ेगा।

सवाल – डिस्ट्रिक्‍ट गजेटियर क्या होता है?
उत्‍तर – अंग्रेजों के जमाने में इसे हर साल बनाया जाता था। इसमें जिले भर के रिकॉर्ड रखे जाते थे।

सवाल – रिजर्वेशन को कंटीन्‍यू करना चाहिए या नहीं?
जवाब – रिजर्वेशन को कंटीन्यू करना चाहिए। पॉलिसी में प्रॉब्लम नहीं, इंप्लीमेंटेशन की समस्या है। जिन्‍हें इसकी जरूरत नहीं है, उनके लिए रिजर्वेशन नहीं होना चाहिए।

सवाल – आप अपने विलेज में पानी की प्रॉब्‍लम कैसे दूर करेंगे?
जवाब – इसके दो तरीके हैं। पहला – नेचुरल तरीके से मिलने वाले रेन वाटर की हार्वेस्टिंग करेंगे।
दूसरा – कोशिश करेंगे कि डिस्ट्रिक्‍ट एडमेनिस्‍ट्रेशन के सहयोग से विलेज में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाएं। ताकि गंदे पानी का ट्रीटमेंट करके इसे सिंचाई और कपड़े धोने आदि के काम में उपयोग कर सकें।

सवाल – क्राइम और क्‍लास में क्‍या संबंध है। क्‍या लोअर क्‍लास के लोग ही क्राइम करते हैं?
उत्‍तर – नहीं, मैं आपकी बात से एग्री नहीं हूं। क्राइम हर क्लास के लोग करते हैं। हां, क्राइम का तरीका बदल जाता है। बिग कारपोरेट से जुड़ लोग 10 हजार करोड़ का स्कैम कर रहे हैं। जबकि रिक्शा चलाने वाला 100 रुपया छीन रहा है। हमें प्रीज्यूडिस नहीं होना चाहिए कि गरीब है तो वो क्राइम कर रहा है और अमीर है तो क्राइम नहीं करता है।

सवाल – सिविल सर्विस में क्‍यों आना चाहते हैं।
जवाब – बेहतरीन कॅरियर अपॉच्‍यूनिटी। किसी दूसरे जॉब में पर्सनालिटी ग्रोथ आसानी से नहीं होता है। सिविल सर्विस में आप इतने वेराइटी के लोगों से मिलते हैं, तो एक्‍सपीरिएंस मिलता है। इसकी तैयारी के दौरान काफी पढ़ना पड़ता है। देश और दुनिया के बारे में जानना पड़ता है, इससे व्‍यक्तित्‍व निखरता है।
इस नौकरी में सोसायटी से सीधा सेवा करने का मौका मिलता है। आप सुबह जगने से लेकर सोने तक किसी न किसी की मदद करते हैं। हम सिर्फ 10 मिनट में किसी पीडि़त व्‍यक्ति को राहत दे सकते हैं। जबकि किसी दूसरी नौकरी में सेवा के लिए अलग से वक्‍त निकलना पड़ता है।

सवाल – आपका गांव मुरादनगर कैसे बना?
जवाब – मुराद नाम के एक मुगल डायनेस्टी थे, उन्हीं के नाम पर यह गांव बना।

अब आपको बताते हैं 2014 बैच के आईपीएस ऑफिसर श्‍लोक कुमार ने सिविल सर्विस एग्‍जाम का इंटरव्‍यू कैसे फेस किया। वह मूलत: पटना के रहने वाले हैं। अपने आईएएस पिता को देखकर उन्‍होंने सिविल सर्विस में जाने का इरादा बना था। इससे पहले वह इंडियन ऑयल कार्पोरेशन में अधिकारी थे।

सवाल – ब्‍लैकबेरी और एप्‍पल क्‍या है?
जवाब – दोनों दुनिया की मशहूर कंपनियां हैं।

सवाल – यह फल भी है?
जवाब – हां ये फल भी है। लेकिन इस वक्‍त दोनों कंपनियां विवाद की वजह से चर्चा में ज्‍यादा हैं।

सवाल – जॉब क्‍यों छोड़ना चाहते हो?
जवाब – सिविल सर्विस से अच्‍छी नौकरी नहीं मिल सकती, जहां समाज सेवा के लिए पैसे दिए जा रहे हैं।

सवाल – आप सिविल सर्विस में क्‍यों आना चाहते हैं?
जवाब – पुअर पिपुल को क्‍वालिटी एजुकेशन मिले और भूखा न सोए यह मेरी चिंता का विषय है, लेकिन मेरे प्रभाव क्षेत्र में नहीं है। सिविल सर्विस में अगर हम ज्‍वाइन करते हैं तो हम इस समस्‍या को दूर करने में कदम उठा सकते हैं। यह ऐसी नौकरी है, जहां लोगों की सेवा करने के लिए वेतन मिलता है।

सवाल – रोबोटिक्‍स का क्‍या फ्यूचर है। क्‍या ऐसा समय भी आएगा जब इंसानों की जगह रोबोट ले लेंगे?
जवाब – रोबोट और आदमी को थिंकिंग अलग करती है। हमलोग बुद्धजीवी हैं। रोबोट में इमोशन और चेतना अभी नहीं आई है और आना भी बेहद मुश्किल है। आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस जरूर आ गया है, लेकिन इसका बेसिक सा टेस्‍ट रहता है, उसे पास करने पर बता दिया जाता है कि रोबोट में आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस है। इंसानों के जैसा फीलिंग नहीं आ पाता है। इंसानों की जगह लेना रोबोट के लिए मुश्किल है।

सवाल – क्‍या आईपीएल क्रिकेट को बर्बाद कर रहा है? आपको टी-20 या टेस्‍ट क्रिकेट पसंद है?
जवाब – खेल के दोनों फॉर्मेट के लिए अलग-अलग स्किल की जरूरत होती है। इसलिए दोनों खेलों के लिए खिलाड़ी को अलग-अलग तरीके से खेलना पड़ता है। निजी तौर पर मैं टेस्‍ट मैच को पसंद करता हूं, क्‍योंकि मुझे इसमें ज्‍यादा डिसीप्‍लीन, कंसन्‍ट्रेशन और फिटनेस की जरूरत होती है

सवाल – वर्क और पढ़ाई में कैसे बैलेंस करते हो?
जवाब – जब काम भारी पड़ जाता तो रिलैक्‍शेसन के लिए पढ़ाई कर लेता हूं और जब पढ़ाई भारी पड़ती है तो काम करने लगता हूं।

अब आपको बताता हूं 2013 बैच के आईपीएस ऑफिसर कुंवर अनुपम सिंह ने जब सिविल सर्विस एग्‍जाम फेस किया तो किस तरह के सवालों के बौछार हुए। वह मूलत: इलाहाबाद के रहने वाले है और सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद दूसरे प्रयास में देश की सबसे बड़ी परीक्षा में सक्‍सेस पाई।

सवाल – क्या समाज की परम्पराएं समय के साथ बदलनी चाहिए?
जवाब – हां बदलना चाहिए पर जरुरी हो तभी।

सवाल – आपकी हॉबी क्या है?
जवाब – मुझे पढ़ना और खेलना दोनों पसंद है।

सवाल – कौन से हॉस्‍पिटल का नाम वायसराय की पत्नी के नाम पर है?
जवाब – इलाहाबाद का डफरिन अस्पताल।

सवाल – जिस तरह इंडिया तरक्की कर रहा है क्या उसमें डेवलप्‍ड और सबसे अमीर देश बनने की क्षमता है?
जवाब – क्षमता है। इतनी आबादी अगर सही तरह से जुटे तो यह हो सकता है।

सवाल – क्या हमें इसमें सफलता मिलेगी या नही?
जवाब – नहीं यह एक यूटोपिया (खुली आँखों से सपने) की तरह है। आज ज्यादातर आबादी रोटी, छत और कपड़े के लिए संघर्ष कर रही है। केवल थोड़े से युवा इक्कीसवी सदी में जीना चाहता है। आज भी लोग जाति-धर्म के चक्कर में फंसे हुए हैं। सबमे मौलिक विरोधाभास है।

सवाल – इतनी महंगी शिक्षा के बाद सिविल सर्विस में आकर आपने एजुकेशन को बर्बाद क्यों किया? आप इंजीनियर बनके साफ्टवेयर बना सकते थे?
जवाब – साफ्टवेयर डेवलप करने के लिए प्राइवेट सेक्टर में कमी नहीं है। हां, पुलिस में कमी है। हमारे जैसे लोगों के आने से बदलाव हो सकता है। एजुकेशन के बाद यहाँ काम करने से सबको फायदा मिलेगा। तकनीक के इस्तेमाल से पुलिस को हाईटेक किया जा सकता है। आज भी पुलिस विभाग में काम कागजों पर ही हो रहा है।

सवाल – सिविल सर्विस के लिए इतिहास और हिंदी ही क्यों?
जवाब – सब्जेक्ट वही जो पसंद आता हो और भाषा वही जिसमें हम सबसे अच्छा लिख पाएं। ऐसे में पढ़ना आसान हो जाता है।

सवाल – क्या सरकारी तन्त्र को प्राइवेट कल्चर एडॉप्‍ट करना चाहिए?
जवाब – मैक्सिमम आउटपुट के लिए प्राइवेट बोर्ड को अपनाना चाहिए। सरकारी व्‍यक्ति को जरूरी नहीं की सुबह दस से शाम पांच बजे तक ही काम का ख्याल रखे। बल्कि जब उसके पास समय हो तो वो काम कर सके। तो बेहतर आउटपुट मिल सकता है।

सवाल – दिल्ली में निर्भया जैसी घटना हुई है। क्या आपको लगता है की महिलाओं के नजरिए से सुरक्षा का कानून बनना चाहिए?
जवाब – हां, कानून बनाना जरूरी है, लेकिन सुरक्षित रखने के लिए सबसे जरूरी है की हर कार्यस्थल चाहे प्राइवेट हो या सरकारी, वहां महिलाओं की संख्या ज्यादा हो। काफी समय से महिला आरक्षण की बात हो रही है। इसे लागू करने के प्रयास किए जाने चाहिए।

सवाल – किसी जगह अगर अतिक्रमण है तो क्या बल प्रयोग कर उसे हटाया जाना चाहिए?
जवाब – बल प्रयोग से हटाना उचित नहीं है पहले अतिक्रमण का कारण जानना चाहिए और उसे दूर करने की कोशिश की जानी चाहिए।

Back to top button