देश

Video: सड़क पर जा रही थी महिला, तीसरी मंजिल से ऊपर आ गिरा बच्चा

mp news two years old boy fall from third floor in shivpuri

सच ही लोगो ने कहा है  जाको राखे साइयां मार सके न कोय। आज हम आपको एक ऐसी दिल दहला देने वाली घटना के बारे में बताने जा रहे जिससे जानने के बाद आपके रौंगटे खड़े हो जायेंगे ये मामला शिवपुरी के राघवेंद्र नगर कॉलोनी का है जहाँ तीन मंजिल इमारत से गिरा दो साल का मासूम न सिर्फ हाईटेंशन लाइन से टकराया बल्कि जमीन पर आकर भी गिर गया। यह नज़ारा देखने के बाद लोगो की आखे फटी की फटी रह गयी. इस घटना के बाद मौके पर अफरा तफरी का माहौल बन गया, लोग घबरा गए लेकिन बाद में यही कहते सुने गए कि …जाको राखे साइयां, मार सके न कोय। बबते चले बच्चे का बाल भी बांका नहीं हुआ

दो साल का मासूम तीसरी मंजिल से गिरा, हाईटेंशन लाइन से टकराकर जमीन पर आते समय महिला के आंचल का सहारा मिला तो बच गई जान

 जानकारी के अनुसार

राघवेंद्र नगर कॉलोनी निवासी गुप्ता टाइल्स के संचालक अमित गुप्ता के मकान में एक प्रायवेट कंपनी में काम करने वाला राजवीर यादव किराए से रहता है। सोमवार की शाम करीब साढ़े चार बजे राजवीर का दो साल का बेटा कार्तिक तीसरी मंजिल पर खेल रहा था। इसी दौरान खेलते खेलते कार्तिक रेलिंग से नीचे की तरफ झांकने लगा यह देख उसकी मां रीना ने उसे आवाज लगाई। इसी बीच कार्तिक का बैलेंस बिगड़ गया और वह बाहर की तरफ गिर गया। सबसे पहले वह हाईटेंशन लाइन पर जाकर गिरा जिससे लाइन में फॉल्ट हुआ लेकिन कार्तिक को इस फाल्ट के बावजूद कुछ नहीं हुआ। इसके बाद कार्तिक नीचे सडक़ पर गिरा, लेकिन सडक़ पर गिरने से पहले कार्तिक को रास्ते से गुजर रही एक महिला के आंचल का सहारा मिल गया। महिला के आंचल पर गिरने के बाद वह जमीन पर गिर कर बेहोश हो गया।

कार्तिक को गुप्ता टाइल्स के संचालक अमित गुप्ता और एक अन्य पड़ोसी रजत जैन अपनी कार में तत्काल शहर के एक निजी अस्पताल में ले गए। अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद बच्चा सामान्य हो गया । हालांकि अहतियातन बच्चे को अन्य चैकअप के लिए ग्वालियर रैफर कर दिया गया। मंगलवार को बच्चा पूरी तरह से सामान्य बताया जा रहा है। यह पूरा मामला मंगलवार को पूरी कॉलोनी में चर्चा का विषय बना रहा, लोगों का कहना था कि कार्तिक को सिर्फ ईश्वर ने बचाया है, अन्यथा की स्थिति में हाईटेंशन लाइन पर गिरने के बाद बच्चे का सुरक्षित रह पाना किसी चमत्कार से कम नहीं है। यह पूरी घटना अमित गुप्ता के सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई, जिस व्यक्ति ने भी इस घटना की वीडियो देखी वह इसे ईश्वरीय कृपा ही कह रहा है।

Back to top button