ख़बरराजनीति

BREAKING : फरवरी में राहुल गांधी की दोबारा ताजपोशी, नीमराना या जैसलमेर में हो सकता है कांग्रेस अधिवेशन!

लीडरशिप क्राइसिस से जूझ रही कांग्रेस पार्टी की कमान एक बार फिर राहुल गांधी को सौंपी जा सकती है। दैनिक भास्कर के सूत्रों के मुताबिक, राजस्थान में फरवरी के महीने में कांग्रेस का अधिवेशन बुलाया जा सकता है। यह अधिवेशन नीमराना या जैसलमेर में आयोजित हो सकता है। इसी दौरान, बतौर अध्यक्ष राहुल गांधी की ताजपोशी होगी। बता दें कि राहुल गांधी 16 दिसंबर 2017 से 10 अगस्त 2019 तक कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष रहे हैं। उन्होंने लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार के बाद पद से इस्तीफा दे दिया था। तब राहुल पार्टी नेताओं के मनाने पर भी वापस पार्टी अध्यक्ष बनने को तैयार नहीं हुए थे।

सोनिया की मंजूरी मिलते ही बुलाया जाएगा अधिवेशन
कांग्रेस चुनाव समिति ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से अधिवेशन बुलाने की जगह और समय तय करने की अपील की है। इसके साथ ही चुनाव में हिस्सा लेने वाले AICC के सदस्यों की लिस्ट फाइनल करने का काम भी आखिरी फेज में हैं। सोनिया की मंजूरी मिलते ही कांग्रेस के अधिवेशन की जगह और समय तय कर दिया जाएगा।

दो महीने पहले कांग्रेस में कामकाज के तरीके पर सवाल उठे
करीब दो महीने पहले गुलाम नबी आजाद ने पार्टी के कामकाज के तरीके पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि फाइव स्टार कल्चर से चुनाव नहीं जीते जा सकते। आज नेताओं के साथ यह दिक्कत है कि अगर उन्हें टिकट मिल जाता है तो वे सबसे पहले फाइव स्टार होटल बुक करते हैं। अगर सड़क खराब है तो वे उस पर नहीं जाएंगे।

आजाद ने कहा था कि जब तक इस कल्चर को छोड़ नहीं दिया जाता, तब तक कोई चुनाव नहीं जीता जा सकता। पिछले 72 साल में कांग्रेस सबसे निचले पायदान पर है। कांग्रेस के पास पिछले दो कार्यकाल के दौरान लोकसभा में विपक्ष के नेता का पद भी नहीं है।

कांग्रेस नेताओं ने सोनिया गांधी को चिट्ठी भी लिखी थी
कुछ महीने पहले पार्टी के 23 नेताओं ने इस मसले पर सोनिया गांधी को चिट्‌ठी भी लिखी थी। इनमें कपिल सिब्बल के साथ गुलाम नबी आजाद भी शामिल थे। चिट्ठी में पार्टी में ऊपर से नीचे तक बदलाव करने की मांग की गई थी।

पार्टी में फुलटाइम एक्टिव लीडरशिप की मांग की थी
इस चिट्‌ठी में नेताओं ने सोनिया गांधी से ऐसी फुल टाइम लीडरशिप की मांग की थी, जो फील्ड में एक्टिव रहे और उसका असर भी दिखे। कांग्रेस के सूत्र बताते हैं कि फुलटाइम लीडरशिप और फील्ड में असर दिखाने वाली एक्टिवनेस जैसे शब्दों का इस्तेमाल इस तरफ इशारा करता है कि कांग्रेस का एक गुट दोबारा राहुल गांधी की ताजपोशी नहीं चाहता था।

भाजपा से मिलीभगत के आरोप से नाराज हुए नेता
कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक में चिट्ठी लिखने वाले नेताओं की भाजपा से मिलीभगत का आरोप लगाए जाने से सिब्बल और आजाद नाराज हो गए थे। बिहार चुनाव में हार के बाद कपिल सिब्बल ने तो यहां तक कह दिया था कि पार्टी ने शायद हर चुनाव में हार को ही नियति मान लिया है। उनके इस बयान को पार्टी की टॉप लीडरशिप यानी सोनिया और राहुल गांधी पर निशाना माना गया था।

Back to top button