देश

BREAKING : कोरोना पेशेंट के घर के 100 मी. दायरे तक कंटेनमेंट जाेन, वहीं लगेगा लाॅकडाउन

जयपुर. काेराेना ने राजस्थान की राजधानी में एक दिन में मिलने वाले पाॅजिटिव मरीजाें की संख्या के सभी रिकार्ड ताेड़ दिए। साेमवार काे जयपुर में 745 पाॅजिटिव मरीज मिले। यह आंकड़ा पिछले 8 महीने में सबसे ज्यादा है। अक्टूबर तक जहां राेजाना 200 से 300 मरीज मिल रहे थे, वहीं नवंबर के दाैरान यह आंकड़ा 500 से 600 के बीच रहा और साेमवार काे यह आंकड़ा 745 तक पहुंच गया।

राजधानी में साेमवार काे काेराेना से 5 माैतें हुई, इससे पहले एक दिन में सर्वाधिक माैताें का आंकड़ा 6 था। यानि माैताें का आंकड़ा भी धीरे-धीरे बढ़ रहा है। शहर के 10 इलाकाें में ही 1643 संक्रमित मिल गए हैं। इन्हीं इलाकों में पिछले 2 माह से सबसे ज्यादा संक्रमित भी पाए गए हैं।

गत 5 दिनों में मिले कुल कोरोना मरीजों की हम बात करें तो इन इलाकों में झोटवाड़ा 215, मानसरोवर में 209, गोपालपुरा में 127, जगतपुरा में 162, दुर्गापुरा में 145, सांगानेर में 148, प्रताप नगर में 145, मालवीय नगर में 167, सोढ़ाला में 170 और टोंक फाटक में 155 लोग संक्रमित पाए गए हैं।

फिर से घरों के बाहर नोटिस चिपकाने लगेट​​​​​​

शहर में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामले के बीच कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने 7 दिन पहले सीएमएचओ और थाना पुलिस को संक्रमित के घर के बाहर नोटिस चस्पा करने और संक्रमित की निगरानी के निर्देश दिए थे। अब इस निर्देश का पालन हुआ। सोमवार से सीएमएचओ ने फिर से घरों के बाहर कोरोना पोस्टर चस्पा करने शुरू किए हैं। कोरोना पॉजिटिव मरीज चाहे अस्पताल में भर्ती हो या घर पर आइसोलेशन में हो उसके घर के बाहर कोरोना पॉजिटिव का पोस्टर चस्पा किया जाता था कुछ समय से यह प्रक्रिया को रोक दिया था । अब फिर से कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा के निर्देश के सात दिन बाद पोस्टर चस्पा करना शुरू कर दिया है।

अब अगर हम ना संभले तो नतीजे बेहद घातक हो सकते हैं : मेडिकल एक्सपर्ट

एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ.सुधीर भंडारी, मेडिसन विभाग के डॉ.रमन शर्मा, आरयूएचएस के कोविड प्रभारी डॉ.अजीत सिंह का कहना है कि जिस तरह से लोग कोरोना को भूलकर बिना मास्क बाजारों, शादियों में घूम रहे हैं…यह लापरवाही बहुत घातक साबित हो सकती है। संक्रमण को फैलने से रोकने में अभी मास्क ही महत्तवपूर्ण है। इसके अलावा स्वस्थ व्यक्ति को संक्रमित से दूर रहना चाहिए।

आज तय होगा- कहां लाॅकडाउन

राज्य सरकार की 31 दिसंबर तक की गाइडलाइन के अनुसार जहां संक्रमित मिलेंगे, उसे कंटेनमेंट जाेन घाेषित किया जाएगा। इसे लेकर असमंजस बना रहा। कंटेनमेंट जोन का दायरा निश्चित नहीं है, प्रशासन के अनुसार जिस घर में काेराेना संक्रमित मिलेगा, उस घर के 100 मीटर दायरे तक कंटेनमेंट हाेगा। एक कॉलोनी में अलग-अलग घराें में दस से अधिक केस आने या फिर कई घरों में कोरोना संक्रमित केस मिलने पर दायरा बढाकर 500 मीटर से एक किमी तक किया जा सकता है।

5 दिनों की ही बात करें तो 10 इलाके ऐेस हैं जहां तेजी से मरीज बढ़ रहे हैं। गली-गली में संक्रमित है। पांच दिनों में झोटवाड़ा में 215, मानसरोवर में 209, गोपालपुरा में 127, जगतपुरा में 162, दुर्गापुरा में 145, सांगानेर में 148, प्रताप नगर में 145, मालवीय नगर में 167, सोढ़ाला में 170 और टोंक फाटक में 155 लोग संक्रमित पाए गए हैं। यानी, ये इलाके लॉकडाउन से बहुत ज्यादा प्रभावित होने वाले हैं। संभव है, ये पूरी की पूरी कॉलोनियां कंटेनमेंट जोन में आ जाए और पाबंदिया लग जाएं।

कंटेनमेंट जोन में किन-किन चीजों पर पाबंदियां रहेंगी?

कंटेनमेंट जोन में चिकित्सा, आवश्यक वस्तु और आपात परिस्थिति में ही बाहर निकलने की छूट मिलेगी। आपात परिस्थितियों को छोड़ बाहरी व्यक्ति की एंट्री नहीं हाेगी। संक्रमित के घर के 100 मीटर दायरे तक किसी दुकान या व्यवसायिक गतिविधि की अनुमति नहीं हाेगी।

किसी एरिया में कितने दिन कंटेनमेंट जाेन रहेगा?

शहर में किसी भी इलाके में कोराना पॉजिटिव पाए जाने के बाद कंटेनमेंट जोन का पीरियड कम से कम 7 दिन और अधिकतम 14 दिन का होगा। कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की रिपोर्ट नेगेटिव आने और उसकी क्वारेंटाइन अवधि पूरी होने के बाद ही कंटेनमेंट जोन खत्म होगा।

किसी बस्ती या कॉलोनी में एक ही व्यक्ति संक्रमित मिला तो क्या?

किसी कॉलोनी के केवल घर में एक ही व्यक्ति पॉजिटिव आता है तो उसे भी सख्त हिदायत देकर पाबंद किया जाएगा। मरीज व परिजन क्वारेंटाइन पीरियड़ पूरा हाेने तक बाहर निकलने की अनुमति नहीं हाेगी। इस मरीज के घर के आसपास के लोगों पर पाबंदियां लागू होंंगी।

किसी कॉलोनी में अलग-अलग गलियों में रोगी हैं तो क्या होगा?

शहर के 10 इलाकों में अभी ऐसी ही स्थिति बनी हुई है। यदि ऐसा होता है तो पूरी कॉलोनी कंटेनमेंट जोन घोषित होगी और इस कॉलोनी में अति आवश्यक सेवाओं को छोड़कर लॉकडाउन लागू हो जाएगा।

जोन तय नहीं कर पाए थे, आज से सबकुछ पोर्टल पर

कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने बताया- मैंने 7 दिन पहले ही कोरोना संक्रमितों की पहचान के लिए उनके घरों के बाहर नोटिस चस्पा करने के निर्देश सीएमएचओ को दिया था। साथ ही इन घरों की निगरानी की जिम्मेदारी पुलिस को सौंपी गई थी। कंटेनमेंट जोन तय करने के लिए पुलिस कमिश्नरेट के 4 जिलों के आधार पर प्रत्येक जिले में चार एसडीएम इंसीडेंट कमांडर नियुक्त किए हैं।

कमांडर क्षेत्र के एसीपी व चिकित्सा अधिकारियों से समन्वय कर कंटेंटमेंट जोन बनाएंगे। जोन बनाने के बाद थाना अधिकारी व बीट अधिकारी पॉजिटिव मरीजों की निगरानी रखेंगे। वे रोजाना मरीज के बारे में जानकारी लेकर एप पर सूचना देंगे। मेडिकल टीम संक्रमित के घर पर नोटिस चस्पा करेगी। पहले नगर निगम चुनाव के चलते जिला प्रशासन व पुलिस की व्यस्तता के चलते कंटेंटमेंट जोन तय नहीं किए जा सके थे।

लोग झगड़ते हैं, अब नोटिस फाड़ा तो कार्रवाई करेंगे

सीएमएचओ प्रथम नरोत्तम शर्मा ने बताया- दीपावली से ही संक्रमितों की संख्या बढ़ी थी। कुछ जगह संक्रमित के घरों पर नोटिस चिपकाना संभव नहीं हो पाया। नोटिस चिपका रहे हैं। इसके लिए क्षेत्रवार टीमें बनाई है। कोरोना संक्रमित आने पर टीम मरीज से मोबाइल पर संपर्क करती है। टीम घर पर नोटिस चस्पा करने पहुंचती है तो झगड़ने लगते हैं। चिपकाने पर नोटिस फाड़ दिया जाता है। अब नोटिस फाड़ने वालों पर कार्रवाई करने की योजना बना रहे हैं, ताकि संक्रमित खुद को छुपा नहीं सके।

कहां कितने नए रोगी मिले
झोटवाड़ा, मानसरोवर में 38-38, वैशाली नगर-36, मालवीय नगर-35, सांगानेर-34, विद्याधर नगर-32, सोडाला-31, अजमेर रोड़-28, दुर्गापुरा-27, जगतपुरा, जवाहर नगर में 26-26, गोपालपुरा-22, प्रताप नगर -19, आदर्श नगर-18, बनीपार्क, शास्त्री नगर, मुरलीपुरा में 16-16, लालकोठी, महेश नगर में 15-15, सिविल लाइंस -13, राजापार्क-14, सिरसी-12, शाहपुरा, ब्रहमपूरी में -11, गांधी नगर, सी-स्कीम में 10-10, विराट नगर-8, तिलक नगर, जामड़ोली में 7-7, जौहरी बाजार, चांदपोल, आमेर में 6-6, बापू नगर-5, एमडी रोड़, सीकर रोड़, त्रिवेणी नगर, गोविन्दगढ़ में 4-4, हसनपुरा, जेएलएन मार्ग, रामगढ़ मोड़ में 3-3, एसएमएस, सुभाष चौक, सीतापुरा, सेठी कॉलोनी रामगंज, फुलेरा, कोटपूतली हरमाड़ा, गलता गेट, चाकसू , सैन्ट्रल जेल घाटगेट में 2-2, अजमेरी गेट, बस्सी, झालाना, जोबनेर, खोनागोरियान, किशनपोल, एमआई रोड़, फागी, पुरानी बस्ती, सांगानेरी गेट, सिंधी कैंप में एक-एक संक्रमित मिला है।

Back to top button