देश

BJP सांसद तेजस्वी सूर्या को झूठा ठहराई पुलिस, जिन मुस्लिमों पर आरोप लगाए थे उन्हें मिली क्लीनचिट

कुछ दिनों पूर्व भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या का वो बयान काफी चर्चा में था जिसमें उन्होंने 17 मुस्लिम युवकों पर बेड घोटाले का आरोप लगा दिया था। तेजस्वी सूर्या ने इन 17 मुस्लिम युवकों पर रिश्वत लेकर अस्पताल में मरीजों को बेड देने का आरोप लगा दिया था।बेंगलुरु पुलिस ने इन सभी 17 मुस्लिम युवकों को अपनी जांच में क्लीन चिट दे दी है. भाजपा सांसद द्वारा इस तरह के बेबुनियाद आरोप लगाए जाने के बाद ये युवक मानसिक रुप से बेहद परेशान चल रह थे।

इन 17 में से 3 युवकों ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था, हालांकि इसके लिए इन्होंने व्यक्तिगत कारण गिनाए थे। बचे हुए 14 युवक अपने भविष्य को लेकर बेहद परेशान हैं। वो अब इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि एक बार फिर से उन्हें काम पर वापस बुला लिया जाए।

इन युवकों में से एक युवक का कहना है कि अगर हमें वापस काम पर बुलाया जाएगा तो हम फिर से वापस काम पर जाएंगे। हमें काम करने में किसी किस्म की कोई परेशानी नहीं है क्योंकि हमारे साथ काम करने वाले अन्य सहयोगी हमारे साथ हैं. उनको पता है कि हम कोई भी गलत काम नहीं कर सकते।

नाम जाहिर न करने की शर्त पर इनमें से एक युवक ने बताया कि भाजपा सांसद द्वारा हमें सिर्फ इस आधार पर दोषी ठहरा दिया गया कि हम दूसरे मजहब के हैं।

सोशल मीडिया पर हमें क्या कुछ नहीं कहा गया ! हमें आतंकवादी तक कहा गया, फिर भी हम काम पर वापस आना चाहते हैं क्योंकि कोविड की इस महामारी में हम लोगों की सहायता कर सकें।

मालूम हो कि बेंगलुरु दक्षिण से भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या अक्सर अपने उटपटांग बयानों के लिए चर्चा में रहते हैं। पिछले दिनों वो अपनी पार्टी के 4 विधायकों के साथ कोविड 19 के लिए बने बेंगलुरु साउथ जोन के वॉर रुम में पहुंच गए थे।

तेजस्वी सूर्या ने कैमरे पर यहां काम करने वाले 17 युवकों का नाम गिनाया और पूछा कि यहां पर उन्हें नौकरी के लिए किसने रखा है? चूंकि ये सारे युवक मुस्लिम थें तो उनके साथ आए भाजपा विधायक रवि सुब्रमण्यम ने कहा कि यहां पर कोविड सेंटर चल रहा है या मदरसा ?

बेड आवंटन में घोटाले का आरोप लगाते लगाते इन भाजपा नेताओं ने मामले को सांप्रदायिक रंग देने की पूरी कोशिश की।

बेंगलुरु पुलिस की क्राइम बांच ने जांच की तो पाया कि ये सभी 17 मुस्लिम युवक बेड आवंटन करने की प्रक्रिया में कहीं से शामिल ही नहीं थें और नहीं इनके जिम्मे बेड आवंटन का काम था.

Back to top button