ख़बर

दलित पर दबंगों की बर्बरता, पिलाया अपना पेशाब, पीट-पीट ले ली जान

संगरूर में नशे की हालत में कुछ युवाओं ने दिमागी तौर पर परेशान दूसरे युवक से पहले झगड़ा किया फिर उसे बंधक बना पीटने और फिर और उसे पेशाब  पिलाने का मामला सामने आया है। डॉक्टरों के मुताबिक पीड़ित की टांगें काटनी पड़ सकती हैं। पुलिस ने एससी-एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि एक आरोपित अब भी फरार है। घटना संगरूर के गांव चंगालीवाला की है।

क्या है पूरा मामला
जानकारी के मुताबिक चांगलीवाला गांव के रहने वाले 37 वर्षीय दलित व्यक्ति का बीते 21 अक्टूबर को रिंकू नाम के व्यक्ति और उसके कुछ अन्य साथियों से विवाद हो गया था, लेकिन तब ग्रामीणों के हस्तक्षेप से यह मामला शांत हो गया था।. पुलिस को बताया कि दबंगों ने मृतक के खिलाफ अपने मन में दुश्मनी पाल ली. उन्होंने घटना वाले दिन सात नवंबर को उसे अपने घर बुलाया। यहां चार लोगों ने उसे पकड़ लिया और खंभे से बांधकर जमकर पीटा. पीड़ित ने जब उनसे पीने लिए पानी मांगा, तो उसे पेशाब पीने के लिए मजबूर किया गया।

पीड़ित जग मेल सिंह ने बताया कि कुछ दिन पहले उसका रिंकू व जुगनू के साथ झगड़ा हुआ था। इसके बाद उनका आपस में राजीनामा भी हो गया था लेकिन सात नवम्बर को जब वह पंच गुरदियाल सिंह के घर बैठा था। उस दौरान वहां रिंकू, लक्की व बीटा उसके पास आए और उसे कहने लगे कि लाडी ने उन्हें कहा है कि उसे दवा दिलाना है। रिंकू व बीटा उसे मोटरसाइकिल पर बैठाकर रिंकू के घर ले गए, जहां अमरजीत सिंह पहले से मौजदू था। वहां उससे घंटों मारपीट की गई। युवकों ने पीड़ित को न सिर्फ बांधकर रॉड और डंडों से मारा बल्कि उसके साथ अभद्रता भी की गई।

डॉक्टरों के मुताबिक पीजीआई में भर्ती पीड़ित की टांगें काटनी पड़ सकती हैं। जिला पुलिस प्रमुख डॉ संदीप गर्ग ने बताया कि पीड़ित के बयान पर मामला दर्ज कर लिया गया है। तीनों आरोपित युवक रिंकू सिंह, अमरजीत सिंह और लक्की को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि एक आरोपी बिंदर फरार है।

Back to top button