देश

2 दिन पहले फिर होता पुलवामा जैसा हमला, लेकिन आखिरी वक्त ऐसे टल गया खतरा

Banihal, terrorist behind blast identified himself as Owais Amin of Hizbul Mujhaideen

जम्मू एवं कश्मीर के रामबन जिले में शनिवार को जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर बनिहाल के पास एक सैंट्रो कार में धमाका हुआ है। जब सीआरपीएफ का काफिला गुजर रहा था उसी वक्त एक कार में धमाका हुआ है। काफिले में शामिल एक बस को मामूली नुकसान पहुंचा है। प्राथमिक जांच के मुताबिक, धमाके की वजह सिलेंडर फटना है। घटना में किसी की मौत नहीं हुई है और कार का चालक फरार है। पुलिस ड्राइवर की तलाश में जुटी है।

इस बीच बताते चले

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस ब्लास्ट को भी पुलवामा जैसा ही करने की साजिश थी, लेकिन आखिरी वक्त में अटैकर का माइंड चेंज हो गया और वो कार छोड़कर भाग गया।

– जी मीडिया के मुताबिक ये संभव है कि बनिहार में जो ब्लास्ट हुआ वो एक सुसाइड अटैक हो सकता है। सूत्रों के मुताबिक आखिरी वक्त में अटैकर का दिमाग चेंज हो गया। ये पुलवामा जैसा सुसाइड अटैक हो सकता था। आखिरी वक्त में अटैकर कार छोड़कर भाग गया, लेकिन कार जाकर सीआरपीएफ की बस से टकरा गई।

ड्राइवर की हुई पहचान :

जिस कार में धमाका हुआ था उसकी और उसे चलाने वाले की पहचान हो गई है। कार चलाने वाले संदिग्ध का नाम ओवैस अमीन है, जो शोपियां का रहने वाला है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ओवैस ‘सी’ कैटेगरी का आतंकी है, उसने 5 अप्रैल 2018 को हिजबुल मुजाहिद्दीन ज्वॉइन किया।

पुलिस को मिला 2 पन्नों का सुसाइड नोट :

ब्लास्ट की जांच कर रही जम्मू-कश्मीर पुलिस को दो पन्नों का सुसाइड नोट मिला है। नोट में उसने अपना नाम ओवैस अमीन बताया है। आतंकी ने नोट में लिखा है कि वह भारत से बदला लेना चाहता है। मीडिया  के मुताबिक सूसाइड नोट में लिखा है कि ‘मैंने सोच लिया है कि मैं अपने आप को बारूद से उड़ाकर उन भारतीयों से सब अत्याचारों का बदला लूंगा।’

-सुरक्षा एजेंसियों का मानना है 

ये प्लांटेड हो सकता है। पुलिस को ब्लास्ट वाली कार से दो एलपीजी सिलेंडर लगाए गए थे। इसके अलावा कार में पेट्रोल, जिलेटिन की छड़, जैरीकैन, यूरिया और सल्फर रखा था। प्रत्यक्षदर्शियों को मुताबिक उन्होंने जलती कार से एक संदिग्ध को उतरकर भागते हुए भी देखा था।

काफिले में थे 40 जवान

इस काफिले में सीआरपीएफ की 6-7 बस थी और करीब 40 जवान थे। फिलहाल, काफिला रवाना हो गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सैंट्रो कार में दो सिलेंडर, यूरिया और तेल की बोतलें थी।

लागू किया गया था ये नियम

ध्यान रहे कि सुरक्षाबलों के काफिले के साथ किसी आम नागरिक के कार ले जाने की अनुमति नहीं है। पुलवामा हमले के बाद जारी हुई एसओपी के मुताबिक सुरक्षा बलों की मूवमेंट के दौरान किसी आम वाहन का हाईवे पर चलना वर्जित किया गया था।

सीआरपीएफ बोली

सीआरपीएफ ने कहा कि आज करीब 10.30 बजे बनिहाल के पास एक सिविल कार में धमाका हुआ। इस दौरान सीआरपीएफ का काफिला वहां से गुजर रहा था। धमाके के बाद कार में आग लग गई और सीआरपीएफ के एक बस के पिछले हिस्से को मामूली नुकसान पहुंचा। किसी सीआरपीएफ जवान को कोई चोट नहीं आई है। धमाके के सभा पहलुओं की जांच की जा रही है।

गौरतलब है कि बीते 14 फरवरी को पुलवामा में जोरदार धमाका हुआ था। आरडीएक्स से भरी कार को सीआरपीएफ के काफिले से टकरा गई थी। इस आतंकी हमले में 40 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद गृहमंत्रालय ने एक गाइडलाइन जारी की थी। इसके तहत जब भी सुरक्षाबलों का काफिला हाइवे से गुजरेगा, तब आवाजाही रोक दी जाएगी।

Back to top button