जिंदगी

अलर्ट ! अभी बदलें अपनी ये आदत, इस दिशा की तरफ पैर करके सोना खतरनाक

हर इंसान की कुछ न कुछ अलग आदतें होती हैं। जो हमारे जीवन में गहरा असर डालती है. जिनमें से कुछ आदतें ऐसी होती हैं जो आपके जीवन के लिए खतरनाक हो सकती हैं। खासकर वे आदतें जो आपकी जिंदगी पर  असर डालती हैं। अक्सर देखा जाता है कि लोग अपनी   लाइफ को बर्बाद कर देते हैं। ज्यादातर लोगों को तो पता ही नहीं होता है कि उनकी  लाइफ उनकी आदत की वजह से बर्बाद हो रही है। रोजाना की आदतों से हमारे शरीर पर इफेक्ट पड़ता है और उसका असर जीवन की गुणवत्ता पर पड़ता है। ऐसा ही आज हम कुछ जानकारी देने जा रहे है.

बताते चले दिनभर की थकान को मिटाने और खुद को अगले दिन के लिए रिचार्ज करने के लिए रात में 8 घंटे की नींद लेना बहुत जरूरी है। उचित मात्रा में नींद लेने से शरीर के साथ-साथ हमारा दिमाग भी स्वस्थ रहता है। अब जैसा कि जानते हैं कि हर चीज के अपने कुछ नियम होते हैं। नींद के साथ भी कुछ ऐसा ही है।

इन बातो का रखे ध्यान 

# अकसर घर के बड़ों के मुंह से आपने यह सुना होगा कि इस दिशा में सिर रखकर नहीं सोना चाहिए या उस दिशा में पैर नहीं करना चाहिए। हमारे शास्त्रों में ऐसा कहा गया है कि हमेशा पूर्व या दक्षिण दिशा में सिर रखकर सोना चाहिए।

# इन दिशाओं में सिर रखकर सोने से लंबी आयु प्राप्त होती है और इसके साथ ही स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है। शास्त्रों में इस बात की मनाही है कि उत्तर या पश्चिम दिशा में सिर रखकर नहीं सोना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचता है।

# विज्ञान का इस बारे में कहना है कि जब हम पूर्व या दक्षिण दिशा की ओर सिर करके सोते हैं तो यह वाकई में कई बीमारियों से शरीर की रक्षा करती है। जैसा कि हम जानते हैं कि सौर जगत ध्रुव पर आधारित है। ध्रुव के आकर्षण के फलस्वरूप प्रगतिशील विद्युत प्रवाह दक्षिण से उत्तर दिशा की ओर हमारे सिर में प्रवेश करता है और पैरों के रास्ते निकल जाता है। इससे सुबह जब हमारी आंख खुलती है तो हमारा दिमाग विशुद्ध वैद्युत परमाणुओं से परिपूर्ण एवं स्वस्थ हो जाता है।

# इसके साथ-साथ ऐसा इसलिए भी करने को मना किया जाता है क्योंकि दक्षिण दिशा में पैर और उत्तर दिशा में सिर करके अकसर शवों को लिटाया जाता है।

# जब एक जीवित व्यक्ति इस पोजीशन में रात को सोता है तो उसे बुरे सपने आते हैं, नींद पूरी नहीं हो पाती है, मध्य रात्रि में आंख खुल जाती है।

# इसीलिए बड़े-बुजुर्गों द्वारा कही गई बातों को अकसर अंधविश्वास कह कर डाल देना बिल्कुल भी उचित नहीं है क्योंकि साइंस हर एक चीज या नियम के पीछे छिपा हुआ रहता है।

Back to top button