धर्म

अक्षय तृतीया : भूलकर भी न करें ये 5 गलतियां, वरना कभी नहीं बन पाएंगे धनवान

Image result for अक्षय तृतीया कल : भूलकर भी पर न करें ये 5 गलतियां, वरना कभी नहीं बन पाएंगे धनवान

वैसे तो हमारे हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का बहुत महत्व है और इसे बहुत शुभ भी माना जाता है. इस दिन सोने के आभूषण खरीदने की परंपरा तो है ही लेकिन इसके साथ ही अक्षय तृतीया के दिन कोई नया सामान खरीदना या फिर मांगलिक कार्यों का आयोजन करना भी काफी शुभ होता है.  बताते चले अक्षय तृतीया इस महीने में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि भी है जो अत्यंत ही शुभकारी और सौभाग्यशाली मानी जाती है. जिसे हिन्दू धर्म में इस तिथि को अक्षय तृतीया के रूप में जाना जाता है.

अक्षय तृतीया एक बहुत ही अबूझ मुहूर्त मानी जाती है.  दीवाली की तरह अक्षय तृतीया के दिन भी मां लक्ष्मी की विधि विधान से पूजा करने से घर धन धान्य से भर उठता है और सेहत भी अच्छी रहती है. अक्षय तृतीया के अवसर पर हम आपको कुछ टोटकों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें करने से आपके घर में मां लक्ष्मी हमेशा विराजमान रहती हैं और आपको किसी भी तरह की आर्थिक परेशानी नहीं होती है.

आपको बता दें कि इस साल यानी वर्ष 2019 में मंगलवार 7 मई को देशभर में अक्षय तृतीया का त्योहार मनाया जाएगा. और इस अक्षय तृतीया की सबसे खास बात यह है कि इस दिन करीब एक दशक बाद चार ग्रहों का विशेष संयोग भी बन रहा है जो सभी लोगों लिए काफी लाभकारी सिद्ध हो सकता है.

भूल से भी न करे ये गलतियां 

क्रोध न करें-
अक्षय तृतीया के दिन किसी के प्रति अपने दिल में क्रोध का भाव न रखें. अगर इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की आराधना करने के बाद कोई व्यक्ति अपने मन में दूसरों के लिए बुरे भाव रखता है, तो मां लक्ष्मी उसके पास कभी नही ठहरतीं.

खाली हाथ घर न जाएं-

अक्षय तृतीया के दिन शुभ फल प्राप्त करने के लिए सोने से बनी कोई वस्तु जरूर खरीदें. इस दिन घर खाली हाथ लौटना शुभ नहीं माना जाता है. यदि सोना खरीदना संभव न हो तो आप क्षमतानुसार किसी अन्य धातु से बनी अपनी जरूरत का सामान भी खरीद सकते हैं.

पूजा में तुलसी का उपयोग-

अक्षय तृतीया के दिन लक्ष्मी पूजन के साथ भगवान विष्णु की पूजा का भी विशेष महत्व होता है. भगवान विष्णु की पूजा में प्रसाद में तुलसी का उपयोग किया जाता है. ध्यान रखें कि प्रसाद में चढ़ाने के लिए तुलसी दल स्नान करके साफ कपड़े पहनने के बाद ही तोड़ना चाहिए. अन्यथा व्यक्ति को शुभ फल की जगह अशुभ फल की प्राप्ति हो सकती है.

विष्णु-लक्ष्मी की एकसाथ करें पूजा-
समृद्धि और सौभाग्य की इच्छा रखने वाले साधकों को अक्षय तृतीया के दिन भूलकर भी भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की अलग-अलग पूजा नहीं करनी चाहिेए. ऐसा इसलिए मां लक्ष्मी भगवान विष्णु पति-पत्नी हैं. इस अवसर पर मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु की एक साथ पूजा करने पर ही अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है.

पूजा और सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त-

तिथि- 7 मई 2019, मंगलवार के दिन अक्षय तृतीया मनाई जाएगी.

पूजा का शुभ मुहूर्त- सुबह 5.40 बजे से दोपहर 12.17 बजे तक.

सोना खरीदने का मुहूर्त- सुबह 6.26 बजे से लेकर रात 11.47 बजे तक.

Back to top button