देशराजनीति

लालू के लाल की तलाक अर्जी के सारे खुलासे, परिवार को बोलती थी गन्दी बात, करती थी मारपीट  

पटना। आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव पत्‍नी ऐश्‍वर्या के साथ तलाक लेना चाहते हैं। इसके लिए उन्होंने पटना सिविल कोर्ट में याचिका दायर कर दी है। याचिका में कहा है कि वह ऐश्‍वर्या के साथ नहीं रहना नहीं चाहते हैं। तेज प्रताप यादव ने 13 (1) (1a) हिन्‍दू मैरिज एक्‍ट के तहत तलाक के लिए अर्जी दी है। मामले की अगली सुनवाई 29 नवंबर को होगी। नहीं इस संबध में लालू परिवार के किसी सदस्य की प्रतिक्रिया नहीं आई है। वहीं एक न्यूज चैनल ने दावा किया है कि पटना सिविल कोर्ट में दाखिल अर्जी में तेज प्रताप ने लिखा है कि पत्‍नी ऐश्‍वर्या छोटे भाई तेजस्‍वी के बीच आ रही थीं।

वह दोनों भाइयों के बीच झगड़ा कराना चाहती थीं। रिपोर्ट के मुताबिक, तेज प्रताप ने अजी में लिखा, ‘ऐश्‍वर्या मुझे मेरे छोटे भाई से लड़वाना चाहती थीं। वह कहती थीं कि तेजस्‍वी तुमसे जलता है।’इसके साथ ही तेज ऐश्वर्या पर राजनीतिक स्वार्थ के लिए शादी करने का आरोप लगाया है। तेज प्रताप ने अपनी अर्जी में तारीख के साथ जिक्र किया है कि 12 मई को हुई शादी के बाद 1 सितंबर तक दोनों के बीच क्या-क्या हुआ। उन्होंने अपनी अर्जी में लिखा, “दो जून को ऐश्वर्या ने कहा था- तुम्हारे यहां सब गंवार हैं। तेज प्रताप के मुताबिक, 9 और 11 जून को भी उनका पत्‍नी ऐश्‍वर्या से झगड़ा हुआ। उन्‍होंने बताया कि ऐश्‍वर्या ने उनके ऊपर पानी फेंक दिया था। तेज प्रताप ने ऐश्‍वर्या के ऊपर पानी फेंका। इसके बाद दोनों के बीच मारपीट भी हुई।

‘तो शादी का क्या फायदा’

तलाक अर्जी में तेज प्रताप ने आगे लिखा है कि जून में झगड़ा होने के बाद जुलाई में भी दोनों के बीच लड़ाई हुई थी। इसके अलावा तेज प्रताप ने पत्‍नी ऐश्‍वर्या पर राजीतिक स्‍वार्थ के भी आरोप लगाए हैं। तेज प्रताप का आरोप है कि ऐश्‍वर्या छपरा लोकसभा सीट से अपने पिता चंद्रिका राय को लोकसभा का टिकट दिलवाने के लिए दबाव बना रही थीं। तेज प्रताप ने लिखा, ‘ऐश्वर्या बोलती थीं कि अगर छपरा से मेरे पिता को टिकट नहीं मिला तो तुम से शादी का क्या फायदा।’

बंद कमरे में सुनवाई के लिए लगाई है तेज प्रताप ने गुहार

तेज प्रताप यादव ने बीते शुक्रवार को पत्‍नी ऐश्‍वर्या से तलाक लेने के लिए पटना सिविल कोर्ट में अर्जी दी। मामले की सुनवाई 29 नवंबर को होनी है। तेजप्रताप यादव की शादी 12 मई 2018 को हुई थी। तलाक की अर्जी में तेज प्रताप ने मुख्‍य तौर पर तीन मांगें रखी हैं। पहली- हिन्दू विवाह अधिनियम 13 (1) (1a) के तहत ऐश्‍वर्या से तलाक। दूसरी- अधिनियम 14(1) के तहत शादी के एक साल के अंदर तलाक की मांग और तीसरी- धारा 22 के तहत अदालत में सुनवाई की प्रक्रिया बंद कमरे में हो, जिससे मीडिया में सभी बातें न जा सकें।

Back to top button