ख़बरदेश

मोदी के शपथग्रहण से पहले जानिए उनका नया मंत्रिमंडल, इन सबको मिलेगी कैबिनेट में कुर्सी

लोकसभा चुनाव में एनडीए की प्रचंड जीत के बाद अब पीएम नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में किसे शामिल किया जाएगा और किसकी होगी छुट्टी? इसपर कयास लगने शुरू हो गए हैं. वैसे मोदी सरकार के पिछले पांच साल में तो यही देखने को मिला कि कैबिनेट में फेरबदल ज्यादा नहीं हुई – सिर्फ दो बार. एक फेरबदल की वजह चुनावों की तैयारी के लिए नेताओं की तैनाती रही और दूसरी थी कुछ नेताओं का खराब प्रदर्शन. मोदी है तो मुमकिन ये भी है कि इस बार ऐसी टीम बने जो पूरे पांच साल बिना रुके, बिना झुके और नरेंद्र मोदी के साथ बिना रुके काम करती रहे.

भाजपा के एक बड़े नेता का यह भी कहना है कि मोदी इस बार अपनी कैबिनेट में कई नए चेहरों को मौका देना चाहते हैं. इसके अलावा वे राज्य जहां भाजपा ने पहली बार बड़ी जीत का परचम लहराया है, वहां के सांसदों को मंत्री पद दिया जाएगा. इसमें पहला नंबर पश्चिम बंगाल का आता है. यहां पर भाजपा ने टीएमसी के किले में बड़ी सेंध लगाई है.

अटकलें हैं कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी दी जा सकती है. दरअसल, रक्षा मंत्री का पद बीजेपी सरकार के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि इस चुनाव में भारतीय सेना और पाकिस्तान में घुसकर की गई सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक की काफी चर्चा हुई थी. ऐसे में सरकार एक मजबूत रक्षा मंत्री के तौर पर शाह को यह अहम पद दे सकती है. निर्मला सीतारमण नई सरकार में मुख्य भूमिका में रह सकती हैं.

स्मृति इरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अमेठी से पराजित किया है. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि पार्टी उन्हें कोई बड़ी जिम्मेदारी दे सकती है. वहीं, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, रविशंकर प्रसाद, पीयूष गोयल, नरेंद्र सिंह तोमर, प्रकाश जावड़ेकर को नए मंत्रिमंडल में बनाए रखे जाने की संभावना है.

इन सबके साथ कोडरमा से सांसद अण्णपूर्णा देवी, महाराष्ट्र के कद्दावर नेता एकनाथ खडसे की राजनीतिक विरासत को आगे ले जाने की जिम्मेदारी संभाले उनकी बहू रक्षा खडसे (रावेर सीट), बीड से सांसद बनी प्रीतम मुंडे, सुल्तानपुर से जीती मेनका गांधी, रीता बहुगुणा जोशी और हाई प्रोफाइल सीटों में शुमार विंध्य क्षेत्र की मीरजापुर संसदीय सीट से एनडीए उम्मीदवार अनुप्रिया पटेल को मोदी कैबिनेट में जगह मिलने की बात कही जा रही है.

इसी तरह से मुंबई उत्तर सीट से जीत हासिल करने वाले गोपाल शेट्टी को कैबिनेट में जगह दी जा सकती है. शेट्टी इस क्षेत्र के जमीनी नेता के तौर पर जाते जाते हैं. वे संगठन में मुंबई भाजपा के अध्यक्ष रहने के अलावा और कई जिम्मेदारियां भी निभा चुके हैं. 2014 में भी गोपाल शेट्टी ने करीब साढ़े चार लाख मतों से जीत दर्ज कराई थी. जब प्रधानमंत्री मोदी ने उज्जवला योजना के तहत सिलेंडर गांवों में देने शुरू किए, तो गोपाल शेट्टी ने इस क्षेत्र की झोपड़पट्टियों में 18 हजार सिलेंडर और अच्छी गुणवत्ता वाले चूल्हे हिमाचल प्रदेश की किसी कंपनी से थोक में मंगवाकर बंटवाए थे.

खजुराहो के सांसद विष्णु दत्त शर्मा, हरिद्वार सीट से जीते पूर्व सीएम रमेश पोखरियाल, इंदौर से सांसद शंकर लालवाणी, जोधपुर सीट पर सीएम अशोक गहलौत के बेटे को पटकनी देने वाले गजेंद्र शेखावत, जादवपुर से अनुपम हाजरा, बंकुरा से सुभाष सरकार, जलपाईगुडी से डॉ जयंता कुमार राम, हिमाचल के सांसद अनुराग ठाकुर और कांकेर के सांसद मोहन मंडावी का नाम भी मंत्रियों की सूची में आ सकता है. इसके अलावा हरियाणा में सोनीपत सीट पर पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा को हराने वाले रमेश कौशिक, रोहतक सीट पर तीन बार के सांसद दीपेंद्र हुड्डा को शिकस्त देने वाले अरविंद शर्मा और हिसार सीट पर जीते केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह के पुत्र ब्रजेंद्र सिंह को केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह दी जा सकती है.

Back to top button