ख़बरदेश

ब्लॉग में आडवाणी ने उकेरा दिल का दर्द, जो कुछ लिखा वो बीजेपी में भूचाल लाने वाला

6 अप्रैल को बीजेपी के स्थापना दिवस से पहले पार्टी के वरिष्ठ नेता और मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लाल कृष्ण आडवाणी ने ब्लाग लिखा है. इस ब्लॉग का शीर्षक है ‘नेशन फर्स्ट, पार्टी नेक्स्ट, सेल्फ लास्ट’. गुजरात के गांधीनगर से भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को लोकसभा की टिकट दिए जाने के बाद लालकृष्ण आडवाणी की यह पहली टिप्पणी है.

आडवाणी ने लिखा- ‘अपने विचार साझा करने से पहले, मैं गांधीनगर के लोगों का आभार व्‍यक्‍त करता हूं, जिन्होंने 1991 के बाद छह बार मुझे लोकसभा के लिए चुना. उनके प्यार और समर्थन ने मुझे हमेशा अभिभूत किया है.’

ब्‍लॉग में आडवाणी ने मौजूदा दौर में राष्‍ट्रवाद को लेकर चल रही जोरदार बहस पर अपने विचारों के जरिए कटाक्ष किया है. इसके साथ ही अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता पर भी अपने विचार रखे. वो लिखते हैं- ‘भारतीय लोकतंत्र का सार विविधता और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का सम्मान है. शुरुआत से ही बीजेपी ने वैचारिक विरोधियों को कभी दुश्‍मन नहीं माना. इसी प्रकार से राजनीतिक तौर पर हमसे अलग असहमत होने वालों को भी हमने कभी एंटी-नेशनल नहीं कहा.’

आडवानी ने कहा, लोकतंत्र एवं लोकतांत्रिक मूल्यों की रक्षा भाजपा की विशिष्टता रही है. इसलिए भाजपा हमेशा मीडिया समेत सभी लोकतांत्रिक संस्थाओं की स्वतंत्रता, निष्पक्षता और उनकी मजबूती को बनाये रखने की मांग में सबसे आगे रही है. चुनावी सुधार, राजनीतिक और चुनावी फंडिंग में पारदर्शिता पर विशेष ध्यान देने के साथ, जो भ्रष्टाचार-मुक्त राजनीति के लिए बहुत आवश्यक है, हमारी पार्टी के लिए एक और बड़ी प्राथमिकता रही है.

 

 

Back to top button