देश

5 महीने की परी को लील गया कोरोना, मासूम भाई का सवाल आपका भी कलेजा छलनी कर देगा

नई दिल्ली : सबसे भारी लाशें छोटे बच्चों की होती है, जिन्हें उठाने वालों के कंधे टूट जाएं। दो दिन में जीटीबी अस्पताल में कोविड ने दो मासूमों को लील लिया। इनमें एक 5 महीने की परी थी और एक 9 महीने का क्रिशु। नंद नगरी की रहने वाली परी को बुधवार को सीमापुरी श्मशान में दफनाया गया है, जो 150 दिन ही जिंदा रह पाई। सीमापुरी श्मशान में बुधवार को उसका अंतिम संस्कार भगत सिंह सेवा दल के संस्थापक जितेंद्र सिंह शंटी और बच्ची के पिता प्रहलाद ने किया। जितेंन्द्र सिंह शंटी ने बताया कि अस्पताल से एक एम्बुलेंस में अमूमन एक ही डेड बॉडी आती है। लेकिन बुधवार दोपहर मैंने एक एम्बुलेंस में दो डेड बॉडी देखीं, तो हैरत में आ गया।

वीडियो कॉल पर परी से बात करने की जिद कर रहा भाई
स्टाफ से पूछा तो उन्होंने बताया कि इसमें एक पांच महीने की परी नाम की बच्ची की डेडबॉडी है। यह सुन मेरे आंसू खुद-ब-खुद बहने लगे। जिसे भी यह पता चला वह भावुक हो गया। बच्ची के पिता प्रहलाद पेंटिंग का काम करते हैं। उन्होंने कहा, मेरी बेटी परी जैसी थी, इसलिए उसका नाम परी रखा था। प्रहलाद ने बताया कि उसे 6 मई को जीटीबी अस्पताल में कोविड टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद एडमिट कराया था। छह दिन तक वह वेंटिलेटर पर रही। इलाज के दौरान बुधवार को उसकी मौत हो गई। परी का बड़ा भाई 3 साल का है, जो बार-बार जिद कर रहा है कि वीडियो कॉल पर मेरी परी से बात कराओ। तीन साल के इस बच्चे के सवालों का जवाब परी के मम्मी-पापा के पास भी नहीं है क्योंकि परी तो अब बस मन के वीडियो कॉल में ही समा कर रह गई।

बीमार पिता को नहीं पता कि 9 महीने का बेटा नहीं रहा
दिलशाद कॉलोनी के रहने वाले शशांक शेखर (26) कोविड पॉजिटिव हैं। फिलहाल उनका इलाज राजीव गांधी अस्पताल में चल रहा है। इसी बीच गुरुवार को उनके 9 महीने के बेटे क्रिशु की जान कोविड ने ले ली। उसका इलाज जीटीबी अस्पताल में चल रहा था। क्रिशु के नाना रंजीत कुमार झा ने बच्चे का अंतिम संस्कार किया। परिवार वालों ने शशांक की तबियत को ध्यान में रखते हुए उन्हें अभी यह बताया भी नहीं है। क्रिशु के बाबा और मां भी कोविड पॉजिटिव हैं। फिलहाल होम आइसोलेशन में हैं। बुधवार को क्रिशु की तबियत बिगड़ी तो उसे नाना और मां जीटीबी अस्पताल लेकर पहुंचे, लेकिन गुरुवार तड़के सुबह इलाज के दौरान ही क्रिशु की मौत हो गई।

Back to top button