सेहत

स्वाइन फ्लू है बेहद खतरनाक, जानिए बचाव के घरेलू उपचार

एक बार फिर स्वाइन फ्लू ने दस्तक दे दी है। स्वाइन फ्लू के लक्षण देखा जाए तो इसमें बुखार आता है परंतु इससे 100 डिग्री तक का बुखार आता है और सर्दी, जुकाम, सूखी खांसी होना, थकान होना, सिरदर्द और आंखों से पानी आना ये भी लक्षण है। स्वाइन इंफ्लुएंजा को स्वाइन फ्लू के नाम से भी जाना जाता है जो कि इंफ्लुएंजा वायरस से होता है और यह वायरस सूअरों के श्वसन तंत्र से निकलता है। इस वायरस में परिवर्तित होने की क्षमता होती हैं जिससे यह आसानी से लोगों में फैल जाता है।

स्वाइन फ्लू का इलाज

तुलसी:

सुबह उठते ही आप पांच से दस पत्तियां अच्छी तरह तरह धो कर उनका सेवन कर लें। तुलसी का अपना एक चिकित्सीय गुण है। प्रतिदिन तुलसी के सेवन से गले और फेफड़ों की जहाँ सफाई होगी वही ये आपकी प्रतिरोधक क्षमता को इतनी मजबूती देगा कि आपका शरीर संक्रमण से लड़ने के काबिल हो जायेगा।

कपूर:

कपूर को कपडे में लपेटकर अपने हाथ या गले में बांध कर हवा से होने वाले स्वाइन फ्लू के सक्रमण से बच सकते है। और छोटे बच्चों को यह आलू या केले के साथ मलकर दे सकते हैं क्यों कि इसे सीधा लेना मुश्किल होता है। याद रखें कपूर को रोजाना नहीं लेना है इसे महीने में एक बार ही लें।

लहसुन:

सवेरे कच्चे लहसुन का सेवन कर सकते है ये आपकी प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि बाकि खाद्य पदार्थो की अपेक्षा ज्यादा करती है। अन्य चीजों की बजाय लहसुन से इम्यूनिटी ज्यादा बढ़ती है।

गाय का दूध:

गाय का दूध के साथ हल्दी का प्रयोग करके हम स्वाइन फ्लू के प्राम्भिक लक्षणों को कम कर सकते है। रोज रात को दूध में थोड़ी हल्दी डालकर ले सकते हैं।

विटामिन सी:

खट्टे फल और विटामिन सी से भरपूर आंवला जूस आदि का सेवन करें। चूंकि आंवले का जूस हर महीने नहीं मिलता है, ऐसे में आप पैक्ड आंवला जूस भी ले सकते हैं।

Back to top button