खेल

स्मिथ-वार्नर पर गेंद से छेड़छाड़ मामले में लगे प्रतिबंध को कम कराने के विरोध में खड़ा हुआ ये खिलाड़ी

भारत के खिलाफ घरेलू श्रृंखला से पहले ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के अधिकारी गेंद से छेड़छाड़ मामले में प्रतिबंध झेल रहे पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर पर लगे प्रतिबंध को कम करने के लिए अंतिम बार विचार-विमर्श करने की तैयारी कर रहे हैं। लेकिन उनकी इस सज़ा को कम करने के विरोध में पूर्व ऑस्ट्रेलियाई तेज़ गेंदबाज़ मिशेल जॉनसन खड़े हो गए हैं।

तिकड़ी पर बरकरार रहना चाहिए प्रतिबंध

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज मिशेल जॉनसन ने रविवार को कहा कि स्टीव स्मिथ, डेविड वार्नर और कैमरून बेनक्रॉफ्ट पर गेंद से छेड़छाड़ करने के लिए लगा प्रतिबंध बरकरार रहना चाहिए क्योंकि इन्होंने बोर्ड की सजा को चुनौती नहीं दी है। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट इस समय विकट स्थिति से गुजर रहा है और उसे हाल में कई मैचों में हार का सामना करना पड़ा जिससे स्मिथ और वार्नर को टीम में वापस लेने की मांग उठती जा रही है।

सज़ा कम करने को लेकर चल रही है बात

दक्षिण अफ्रीका में गेंद से छेड़छाड़ प्रकरण में भूमिका के बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इस साल मार्च में तत्कालीन कप्तान स्मिथ और उप कप्तान वार्नर को एक साल के लिए अंतरराष्ट्रीय और राज्य क्रिकेट से प्रतिबंधित किया था जबकि कैमरून बेनक्राफ्ट को यह सजा नौ महीने के लिए दी गई थी।

फेयरफैक्स मीडिया के मुताबिक क्रिकेट बोर्ड (सीए) आगामी सप्ताह के शुरूआत में स्मिथ, वार्नर और बैनक्रॉफ्ट की सजा को कम करने के मुद्दे पर बैठक बुलाएगा। सीए ने यह फैसला ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट संघ (एसीए) की खिलाड़ियों की सजा कम करने की मांग पर किया है।

एसीए ने कहा था कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ केप टाउन टेस्ट में हुई घटना के लिए सिर्फ खिलाड़ी नहीं बल्कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की संस्कृति और कार्यप्रणाली भी जिम्मेदार है। स्मिथ और वार्नर ने अपने प्रतिबंध के आठ महीने पूरे कर लिए हैं जबकि बेनक्राफ्ट का प्रतिबंध दिसंबर में पूरा हो जाएगा।

Back to top button