क्राइमख़बर

स्मार्टफोन खरीदने के लिए बीवी को ही बेच डाला, 2 महीने पहले ही हुई थी शादी!

सिर घुमाने वाली इस वारदात की शुरुआत हुई सोशल मीडिया पर दोस्ती से, उडिषा के बलांगीर के बेलपड़ा पुलिस स्टेशन इलाके के सुलकेला गांव में 17 साल का लड़का अपने परिवार के साथ रहता था। उसकी दोस्ती सोशल मीडिया पर अपनी एक लड़की से हुई और दोनों को आपस में प्यार हो गया। नाबालिग लड़के ने ये बात अपने परिवार को बताई और परिवार ने लड़की वालों के साथ रिश्ते की बात चलाई ।

थोड़ी ना नुकुर के बाद लड़की का परिवार भी मान गया और दो महीने पहले ही दोनो की शादी करा दी गई। दोनों उडिषा मे रह रहे थे इस बीच नाबालिग लड़के ने घर में आर्थिक स्थिति खराब होने का हवाला देते हुए परिवार को राजी किया कि वो छत्तीसगढ़ में जाकर काम करेगा और वहां से पैसे कमाने के बाद वापस लौट आएगा। परिवार तो राजी था ही लड़के ने अपनी नई नवेली दुल्हन को भी छत्तीसगढ़ जाने के लिए राजी कर लिया।

नाबालिग अपनी पत्नी को लेकर उडिषा के बलांगीर से छत्तीसगढ़ के रायपुर के लिए रवाना हो गया। अगस्त के महीने में वो उडिषा से रायपुर पहुंचा । अक्टूबर के शुरुआती हफ्ते में उसने अपने पिता को फोन कर बताया कि उसकी पत्नी किसी के साथ भाग गई है।

काफी तलाश के बाद भी वो उसे नहीं मिल रही है लिहाजा वो उडिषा वापस लौट रहा है। बलांगीर लौटने के बाद उसने यही कहानी लड़की के परिवार को भी सुनाई लेकिन लड़की का परिवार उसकी इस कहानी से संतुष्ट नहीं हुआ और उसने इस वारदात की रिपोर्ट बलांगीर के बेलपाड़ा थाना पुलिस में कर दी।

पुलिस ने जब नाबालिग से पूछताछ की तो असली कहानी सामने आई। उसने पुलिस को बताया कि वो उडिषा से रायपुर और फिर झांसी होता हुआ राजस्थान के बारां के एक ईंट के भट्टे पर मजदूरी करने पहुंचा था।

यहां पर वो अपनी पत्नी के साथ मजदूरी पर लग गया लेकिन मजदूरी करने के कुछ दिन बाद ही उसी भट्टे के आसपास के रहने वाले 55 साल के एक शख्स ने उसे पत्नी को बेचने के एवज में 1.80 लाख रुपये की रकम देने का ऑफर किया जिसके बाद वो उसकी बात मान गया और उसने अपनी पत्नी को उसे सौंप दिया।

पत्नी को 55 साल के अधेड़ को सौंपने के बाद नाबालिग ने अपनी अय्याशियों में पैसे फूंकने शुरु कर दिए उसने सबसे पहले एक महंगा स्मार्ट फोन खरीदा और फिर महंगे होटलों में खाना खाया, ब्रांडेड कपड़े खरीदे और फिर बीवी के किसी और के साथ भाग जाने की पूरी कहानी भी तैयार कर ली।

उसे उम्मीद थी कि उसके परिवार के साथ ही लड़की का परिवार भी उसकी बात को मान लेगा और इसमें कोई कानूनी कार्रवाई नहीं करेगा लेकिन मामला उल्टा पड़ गया जब पत्नी के परिवार ने थाने में इस मामले की रिपोर्ट दर्ज करा डाली।

बेची हुई पत्नी को बरामद करने में छूटे पुलिस के पसीने

नाबालिग की कहानी सुनने के बाद उडिषा पुलिस की एक टीम राजस्थान के बारां के लिए रवाना हुई । वहां उन्होंने बारां पुलिस की सहायता ली और नाबालिग लड़की को बरामद करने उसी ईंट के भट्टे पर पहुंची जहां पर पति ने अपनी पत्नी को बेचा था।

गांववालों ने नाबालिग लड़की की बरामदगी के लिए आई पुलिस का रास्ता जाम कर दिया। 55 साल के अधेड़ का साफ कहना था कि उसने वो नाबालिग लड़की 1.80 लाख रुपये देकर खरीदी है ऐसे में जब तक उसके पैसे वापस नहीं मिलते वो लड़की को लौटाने के लिए तैयार नहीं हैं।

काफी समझाइश के बाद ग्रामीण मानें और उन्होंने वो नाबालिग लड़की राजस्थान पुलिस को सौंप दी। लड़की का मेडिकल कराने के बाद उसे उडिषा पुलिस टीम के हवाले कर दिया गया। जब लड़की से पूछा कि वो कहां जानना चाहती है तो उसने अपने मां-बाप के पास जाने की इच्छा जताई ।

नाबालिग लड़के ने सुनाई नई कहानी

नाबालिग लड़के ने लड़की की बरामदगी के बाद एक नई कहानी पुलिस को सुनाना शुरु कर दिया। नाबालिग के मुताबिक राजस्थान के बारां जाने के बाद उसे दिल की कोई बीमारी हो गई थी जिसका ऑपरेशन होना था लिहाजा उसने अपनी पत्नी को 60 हज़ार रुपये में गिरवी रखा नाकि उसे 1.80 लाख रुपये में बेचा था। पुलिस ने नाबालिग को जुवेनाइल कोर्ट में पेश किया जहां से उसे बाल सुधार गृह भेज दिया गया।

Back to top button