क्राइम

सैंपल देकर कोरोना से इतना डरा, गला काट की खुदकुशी, कुछ घंटे बाद नेगेटिव रिपोर्ट मिली

जबलपुर.

कोरोना संक्रमण के बीच इलाज पर डर हावी हो चला है। जबलपुर मेडिकल कॉलेज में 30 वर्षीय युवक ने खुद का गला चाकू से रेत लिया। जान बचाने के लिए वह वार्ड में इधर-उधर भागता रहा। छटपटा कर उसकी मौत हो गई। युवक को कोरोना संदिग्ध के तौर पर 14 मई को भर्ती कराया गया था। रविवार की मौत के कुछ घंटे बाद ही उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई। वहीं, परिजनों ने इसे हत्या बताया है और मजिस्ट्रियल जांच की मांग की है।

गढ़ा टीआई राकेश तिवारी के मुताबिक पाटन के मुड़िया नुनसर निवासी गणेश सिंह (30) की 13 मई को तबीयत खराब हुई। उसे बुखार आया था। 14 को परिजनों ने उसे मेडिकल कॉलेज अस्पताल के वार्ड नंबर तीन में भर्ती कराया। यहां उसका कोरोना सैंपल जांच के लिए भेजा गया। वह वार्ड में कोविड मरीजों की हो रही मौत और अव्यवस्थाओं से वह परेशान हो गया था।

पूरे वार्ड में बिखरा मिला खून
गणेश सिंह ने रविवार रात को फल काटने वाले चाकू से अपना गला रेत लिया। गला कटने के बाद वह बचने के लिए छटपटाने लगा। उसने पूरे वार्ड में दौड़ लगाई। खून से पूरा वार्ड सना पड़ा है। वहां भर्ती मरीजों में चीख-पुकार मच गई। काफी देर बाद अस्पताल की नर्स और वार्ड बॉय पहुंचे। तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।

मौत के बाद रिपोर्ट आई निगेटिव
गढ़ा थाने के टीआई के मुताबिक गणेश का सैंपल 15 मई को भेजा गया था। 16 मई की रात में उसकी आत्महत्या के कुछ घंटे बाद रिपोर्ट निगेटिव आई है। गणेश खेती-किसानी का काम करता था। उसके दो बच्चे हैं।

राेते हुए पिता देवी सिंह और बड़े पिता मदन सिंह ने आरोप लगाए कि गणेश ने बताया था कि यहां से निकाल लो। यह कसाईघर जैसा लग रहा है। परिजनों ने अस्पताल के एक डॉक्टर व वार्ड बॉय पर हत्या का आरोप लगाया और मामले की जांच मजिस्ट्रियल कराने की मांग की।

Back to top button