उत्तर प्रदेशक्राइम

सीतापुर : गन्ने के खेत में मिले दर्जनों गौवंशों के अवशेष, हिंदू संगठनों ने काटा हंगामा

सिधौली (सीतापुर)। (आरएनएस )अटरिया थाना के सघनपुर गांव में एक गन्ने के खेत में व हार्दिक के निकट दर्जनों गौवंशों के अवशेष मिलने से सनसनी फैल गई। स्थानीय लोगों द्वारा इसकी सूचना पुलिस व हिंदू संगठनों को दी गई। मौके पर अधिकारियों ने पहुंचकर मामले की जांच शुरू की। जानकारी के अनुसार शुक्रवार को जब स्थानीय ग्रामीण लोग खेतों की तरफ जा रहे थे। इसी दौरान सघनपुर गांव के निकट एक खारजे की पुलिया के नीचे कुछ गोवंश के अवशेष पड़े हुए दिखाई दिये। जिसकी सूचना स्थानीय लोगों ने पुलिस और हिंदू संगठनों को दी। सूचना पर पहुंचे हिंदू संगठन की लोग व अटरिया पुलिस ने जांच शुरू की। इसी दौरान निकट के ही देवीदयाल के गन्ने के खेत में लगभग एक दर्जन से अधिक गोवंशो के अवशेष पड़े हुए दिखाई दिए।

पूरे मामले को गंभीरता समझते हुए अटरिया पुलिस ने उच्च अधिकारियों को इसकी सूचना दी। सूचना पर सिधौली उप जिलाधिकारी अशोक कुमार खंड विकास अधिकारी काजल सहित सिधौली कमलापुर की पुलिस मौके पर पहुंच गई। हिंदू संगठनों ने हंगामा काटना शुरू किया और आरोपी को तलाश कर मुकदमा पंजीकृत किए जाने की मांग करने लगे। विश्व हिंदू परिषद के धर्मेंद्र सिंह ने बताया की अटरिया थाना अंतर्गत या गोकशी की पहली घटना नहीं है। इसके पूर्व भी कई बार गोकशी की गई है और कई बार गोवंशों के अवशेष मिले हैं। उन्होंने कहा कि गोकशों के हौसले बुलंद हो रहे हैं। अधिकारियों की मौजूदगी में गोवंशों के शवों को कानूनी कार्रवाई करते हुए निकट कहीं खारजे के भीतर खुदाई करके जमींदोज करवा दिया गया।

एक ओर जहां प्रतिबन्धित पशुओं के हत्या पर प्रदेश सरकार सख्त है। वहीं स्थानीय पुलिस की लापरवाही व मिलीभगत के चलते क्षेत्र में लगातार प्रतिबन्धित पशुओं व गोवंशों की हत्यायें बेखौफ गोकशों द्वारा जारी है। बीती 4 जनवरी को अटरिया थाना के बैसुवा गांव में प्रदीप सिंह के खेतों में गोवंशों के अवशेष पाए गए थे। जिस पर हिंदू संगठनों ने काफी हंगामा काटा था। इस मामले में पुलिस ने घटना के कुछ दिनों के बाद 2 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भी भेजा था। इसी क्रम में 11 जून को कठवा गांव में तीन प्रतिबंधित गोवंशों के कटे हुए शव पाए गए थे। जिसमें 18 जून को अटरिया पुलिस ने 4 लोगों को गिरफ्तार किया था। 27 जून को बेलहापुर मजरा अकबरपुर रीवान में 3 गोवंशों को काटकर मांस निकाल के गोकश अवशेष फेंक गए थे। इसी प्रकार 29 जून को खजुरिया गांव में 4 गोवंशों के शव पूर्व मंत्री के यूकेलिप्टस के खेतों में पाए गए थे। 2 सितंबर को नेशनल हाईवे पर एक कटा हुआ गोवंश को गोकश छोड़कर फरार हो गए थे। लगातार हो रही गोकशी की घटनाओं से पूरे क्षेत्र में आक्रोश का माहौल है। वहीं अटरिया पुलिस की लापरवाही के चलते क्षेत्र के लगातार गोकश द्वारा प्रतिबन्धित पशुओं को चोरी छिपे काटकर मांस की तस्करी जारी है।

Back to top button