उत्तर प्रदेश

सपा मुखिया अखिलेश ने खजांची को दी सौगात, 2 साल की उम्र में बना 2 मकानों का मालिक

नोटबंदी के दौरान बैंक की लाइन में जन्मा खजांची नाथ दो साल की उम्र में ही दो मकानों का मालिक बन जाएगा। सपा मुखिया अखिलेश यादव की ओर से खजांची को मिले दो में से एक मकानों का निर्माण खजांची के ननिहाल में मंगलवार से शुरू हो जाएगा। कानपुर देहात के अनंतपुर भौकल के जोगीडेरा में मकान बनाने के लिए खजांची के तीन मामाओं जरदार नाथ, पप्पू नाथ और मलखान नाथ ने अपनी जमीन दी है। 625 वर्गफीट (25 गुणे 25 फीट) में बनने वाले इस मकान के पहले से तैयार (प्री-फैब्रिकेटेड) हिस्सों को मौके पर जोड़ा जाएगा। दूसरा मकान उसके पैतृक गांव सरदारपुरवा के जोगीडेरा में बनेगा।

गांव के पूर्व प्रधान सर्वेश सिंह ने बताया कि खजांची के यह मकान कानपुर देहात के सबसे अनोखे मकान होंगे। 625 वर्ग फीट में बनने वाले एक मकान में दो कमरे, एक बाथरूम, किचन, बगीचा और लॉबी होगी। पहले से तैयार मकानों के हिस्सों को चयनित जगहों पर फिट किया जाएगा। मंगलवार से यह काम शुरू हो जाएगा। एक सप्ताह में मकान बनकर तैयार हो जाएगा। दूसरा मकान उसके पिता के गांव सरदारपुरवा में बनेगा। खजांची की मां की जहां इच्छा होगी, वहां रहेगी।

फिलहाल खजांची अपनी मां के साथ ननिहाल में एक झोपड़ी में रह रहा है। खजांची की मां सर्वेशा देवी ने कहा कि मेरा बेटा अपने नाम के अनुरूप वाकई खजांची साबित हो रहा है। मेरे पास खुशियां बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं।

बालिग होने पर खजांची को मालिकाना हक

नोटबंदी के दौरान 2 दिसंबर 2016 को खजांची की मां सर्वेशा बैंक की लाइन में रुपये जमा कराने के लिए लगी थीं। लाइन में करीब 500 लोग खड़े थे। प्रसव पीड़ा शुरू होने पर सर्वेशा ने वहीं पर बेटे को जन्म दिया था। प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री और सपा मुखिया अखिलेश यादव ने बच्चे का नाम खजांची रखते हुए दो लाख रुपये की आर्थिक मदद भेजी थी।

खजांची नोटबंदी के विरोध में हुए धरना-प्रदर्शनों और राजनीति का ब्रांड एंबेस्डर बन गया था। विधानसभा चुनाव में हर मौके पर खजांची के नाम पर अखिलेश यादव ने मोदी सरकार को घेरा था। इस बार लोकसभा चुनाव करीब हैं, इसके चलते फिर खजांची का नाम उछलने लगा है।  
यह मकान फिलहाल खजांची की मां सर्वेशा देवी के नाम रहेगा। खजांची के बालिग होने पर इसका मालिकाना हक उसे मिलेगा। खजांची की मां दिव्यांग हैं। खजांची के पिता जसमेर नाथ की मृत्यु उसके जन्म से पांच माह पूर्व हो गई थी।

Back to top button