उत्तर प्रदेशख़बर

शिवपाल का ‘बाहुबली’ प्लान, यूपी की दबंग त्रिमूर्ति को भेजा न्योता

लोकसभा चुनाव की तैयारियों में लगी समाजवादी पार्टी को तब तगड़ा झटका लगा, जब पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने पार्टी से नाता तोड़ दिया. यहीं नहीं, शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन कर दिया. इस मोर्चे के गठन के बाद शिवपाल ने पूरे प्रदेश में सम्पर्क करना शुरू कर दिया है.

अब समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के संस्थापक शिवपाल यादव ने समाजवादी पार्टी के वोटबैंक मुस्लिम और यादवों को अपने खेमे में लाने के लिए जुट गए हैं. सूत्रों की मानें तो शिवपाल ने अब त्रिमूर्ति प्लान बनाया है, जिसमें तीन बड़े नेताओं से सम्पर्क बनाना शुरू किया है. माना जा रहा है कि यदि ये तीनों नेता शिवपाल के मोर्चे में शामिल हो गए तो बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी को करारा झटका साबित हो सकता है.

अब आपको उन तीन नेताओं के नाम भी बता देते हैं. शिवपाल यादव ने मुसलमानों को मोर्चे से जोड़ने के लिए पूर्वांचल के बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी, पूर्व सांसद अतीक अहमद और पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन से सम्पर्क साधना शुरू कर दिया है. बताया जा रहा है कि शिवपाल ने तीनों कद्दावर नेताओं को मोर्चे में लाने के लिए अपने करीबियों को जिम्मेदारी सौंप दी है.

करीब दो साल पहले समाजवादी पार्टी और मुलायम परिवार में वाकयुद्ध शुरू हो गया था. इसके बाद धीरे—धीरे शिवपाल सिंह यादव और अखिलेश यादव आमने सामने आ गए. अखिलेश ने पार्टी को खतरे में देख अपना दावा ठोक दिया और समाजवादी पार्टी पर कब्जा जमा लिया. इसके बाद शिवपाल यादव की पार्टी में हैसियत कम होती गई. शिवपाल यादव को जब लगने लगा कि समाजवादी पार्टी में दाल गलने वाली नहीं है तो उन्होंने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन कर लिया जिसके बाद से समाजवादी पार्टी में खलबली मची हुई है.

 

 

Back to top button