ख़बरराजनीति

शाहनवाज यूं ही नहीं भेजे गए बिहार, RJD को तहस-नहस करने का है प्लान!

पटना
बिहार में नीतीश कुमार की अगुवाई में नई सरकार का गठन हुए ढाई महीने से ज्यादा का वक्त बीत चुका है, लेकिन यहां के राजनीतिक गलियारे में दांव-पेच का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। पटना में सोमवार (18 जनवरी) को भारतीय जनता पार्टी (BJP) एक ऐसा कदम उठाने जा रही है जिससे इस पार्टी की दूरगामी तैयारी के संकेत मिल रहे हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन सोमवार को पटना में विधान परिषद के लिए नॉमिनेशन करेंगे।

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता को बिहार की राजनीति में उतारने के साथ ही कई तरह की चर्चा शुरू हो गई हैं। शाहनवाज के जरिए बीजेपी पार्टी के अंदर नया नेतृत्व तैयार करने के साथ मुख्य विपक्षी दल और राज्य की सबसे बड़ी पार्टी आरजेडी को तहस-नहस करने की भी तैयारी कर रही है। आइए इसे विस्तार से समझने की कोशिश करते हैं।

RJD को तहस-नहस करने का BJP का है प्लान!
पिछले साल के अंत में हुए बिहार विधानसभा चुनाव में भले ही एनडीए सरकार बनाने में सफल हुआ, लेकिन आरजेडी ही सबसे बड़ी पार्टी बनकर सामने आई। इस चुनाव परिणाम के बाद एक बार फिर जाहिर हो गया कि राज्य में मुस्लिम+यादव का समीकरण आरजेडी के साथ है। राजनीति के जानकार मानते हैं कि बीजेपी जैसी बड़ी पार्टी भली-भांति जानती है कि अगर राज्य में नीतीश कुमार की छत्रछाया से अलग जाकर अपने दम पर पार्टी को खड़ी करनी है तो आरजेडी के इस मुस्लिम+यादव समीकरण को तोड़ना ही होगा।

इसी कड़ी में 2019 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी के तत्कालीन अध्यक्ष अमित शाह ने नित्यानंद राय को राज्य में बीजेपी का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त कर दिया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में इसका असर भी दिखा। नित्यानंद राय की अगुवाई में एनडीए ने राज्य की 40 में से 39 लोकसभा सीटें अपने नाम किया था। इनाम के तौर पर नित्यानंद राय को गृहमंत्रालय जैसे अहम विभाग में राज्य मंत्री बनाया गया।
हालांकि माना जा रहा है कि बीजेपी सही वक्त का इंतजार कर रही है और पार्टी एक बार फिर से नित्यानंद राय को बड़ी जिम्मेदारी के साथ बिहार में उतार सकती है। चर्चा तो यहां तक है कि ये जिम्मेदारी मुख्यमंत्री के पद की भी हो सकती है। इसका अनुमान उसी वक्त लगाया जाने लगा था जब बिहार विधानसभा चुनाव में नित्यानंद राय से ज्यादा से ज्यादा रैलियां कराई गईं। इसके अलावा जब सरकार के गठन का समय आया तो नित्यानंद बीजेपी की ओर से अहम रोल निभाते देखे गए थे।

Back to top button