देश

शादी से 15 दिन पहले चर्चा में ये पुलिसवाला, ‘दुल्हन’ से बात कर लिया बड़ा फैसला

अजमेर। देश इन दिनों वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रहा है। राजस्थान में भी वायरस के संक्रमण की दूसरी लहर ने कोहराम मचा रखा है। महामारी की भयावहता को देखते हुए ही प्रदेश की गहलोत सरकार ने सख्त लॉकडाउन लगा रखा। लेकिन सामाजिक दूरी, मास्क लगाने के साथ शादी-समारोह में भीड़ से बचने की तमाम मिन्नतों के बावजूद आये दिन नियम-कायदों की धज्जियां उड़ती नजर आती है।

हालांकि इन सबके बीच भी अजमेर में तैनात एक पुलिस का जवान लोगों के बीच सुर्खियां बटोर रहा है। जी हां, हम बात कर रहे हैं अजमेर कोतवाली थाने के जवान गोरधन चौधरी की।

गोरधन के परिजनों ने उसकी शादी 26 मई को तय की थी। घर में इसे लेकर सारी तैयारियां भी समय रहते ही पूरी कर ली गई और अब सबको इंतजार था26 मई को किशनगढ़ बारात लेकर जाने का। इसी बीच सरकार ने लॉकडाउन की घोषणा कर दी और इसी के साथ गोरधन ने अपनी होने वाली दुल्हन कमलेश के साथ एक फैसला लिया, जिसके बाद वह अजमेर पुलिस में मिसाल बन गया।

दरअसल, गोरधन को लॉकडाउन के बीच शादी करना उचित नहीं लग रहा था। उसने पहले अपने परिजनों से इसे लेकर बात की ओर फिर कमलेश से। गोरधन ने बताया कि उसे ससुराल में शादी रोकने को लेकर बात करते समय हिचकिचाहट हो रही थी लेकिन शुक्र है पढ़ी-लिखी कमलेश उसकी बात समझ गईं। उसे जब पुलिस की नौकरी और फर्ज के साथ मुख्यमंत्री की अपील याद दिलाई तो उसने भी शादी टालने की बात में अपनी रजामंदी दे दी। इसके बाद गोरधन ने अपने परिवार से बात की और शादी को स्थगित कर दिया।

अब गोरधन रोजाना कोतवाली थाना क्षेत्र में लॉकडाउन के दौरान अपनी ड्यूटी को अंजाम दे रहा है। गोरधन के इस फैसले की अधिकारी ही नहीं बल्कि जिला पुलिस का हर जवान सराहना कर रहा है। गोरधन ने आमजन से भी कोरोना काल में शादी या अन्य समारोह स्थगित कर कोरोना को हराने में मदद करने का आमजन को संदेश दिया है। गोरधन ने सब कुछ सामान्य होने तक शादी नहीं करने का भी प्रण भी लिया है।

Back to top button