उत्तर प्रदेश

शादी के दूसरे दिन ही दुल्हन कोरोना पॉजिटिव, 12वें दिन शादी के जोड़े में ही अंतिम विदाई

लखीमपुर खीरी. ये खबर दिल को झकझोरने वाली है…। एक नवदंपति… जिनकी जिदंगी में खुशियां अभी शुरू भी नहीं हो पाई थीं, कि ये महामारी उनके लिए काल बन गई। युवा दंपती का दांपत्य जीवन मात्र 12 दिन ही चला। जिस घर में खुशियों का आलम था, वहां मातम है। मामला है यूपी के लखीमपुर खीरी का। यहां कोरोना नए दांपत्य जीवन को ही निगल गया। 30 अप्रैल को ही शोभित और रूबी की शादी हुई थी। लेकिन शादी के दूसरे दिन ही दुल्हन और दूल्हे दोनों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ गई। रूबी को तत्काल अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां 12वें दिन दुल्हन ने दम तोड़ दिया। जिस जोड़े में वह विदा होकर आई थी, उसी में उसकी अंतिम विदाई हो गई। दूल्हे की भी हालत नाजुक बनी हुई है।

10 दिन तक मौत से लड़ती रही रूबी लखीमपुर-खीरी के खमरिया क्षेत्र के ईशवारा गांव के महेंद्र कटियार के बेटे शोभित कटियार की बारात 30 अप्रैल को क्षेत्र के चकई गांव निवासी कामनाथ वर्मा के घर गई थी। 30 अप्रैल को शादी थी। 1 मई को शोभित अपनी दुल्हन रूबी को विदा कराकर अपने घर ले लाया। ससुराल पहुंचते ही दुल्हन को तेज बुखार और सांस लेने में तकलीफ होने लगी तो शोभित के परिवार ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया।

10 दिनों तक अस्पताल में गंभीर हालत में रहने के बाद रूबी ने जिंदगी को अलविदा कह दिया। अब दूल्हा शोभित भी जिंदगी और मौत के बीच झूल रहा है, उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

पत्नी की तीमारदारी करते-करते पति हो गया बीमार
कहा जा रहा है कि रूबी को दवा और ऑक्सीजन भी ठीक से नहीं मिल पाया। नई नवेली दुल्हन अपनी जिंदगी शुरू करने से पहले ही जंग हार गई। परिजनों का कहना है कि शोभित की भी हालत गंभीर बनी है। शोभित अपनी नई-नवेली दुल्हन रूबी की तीमारदारी में लगा था, इसलिए उसे भी बुखार और सांस लेने की तकलीफ होने लगी। वह अपना ख्याल ठीक से नहीं रख पाया। ऐसे में उसकी तबीयत भी बिगड़ गई।

Back to top button