उत्तर प्रदेशख़बर

विवेक तिवारी मर्डर: ‘कातिल’ सिपाही बोले- जान लेना नहीं चाहते थे

विवेक तिवारी हत्याकाण्ड का मुख्य आरोपी सिपाही प्रशांत चौधरी और संदीप का एसआईटी द्वारा बयान दर्ज किया गया। पुलिस अधिकारियों के अनुसार शुक्रवार को दोनों सिपाहियों ने अपने बयान में हत्याकांड को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। प्रशांत ने कहा कि उसका इरादा हत्या करने का नहीं था। मामले की विवेचना कर रहे इंस्पेक्टर महानगर विकास कुमार पांडेय ने गोसाईगंज जेल के अंदर आरोपितों का बयान लिया।

शुक्रवार को मिली जानकारी के अनुसार लगभग तीन घंटे तक दर्ज किये गये बयान में विवेचक ने 28/29 सितंबर की रात्रि हुई घटना की विस्तृत जानकारी ली। मुख्य आरोपित प्रशांत चौधरी से पूछा गया कि आखिर ऐसी क्या परिस्थिति बन गई कि उसे गोली चलानी पड़ी।

प्रशांत ने कहा कि उसने विवेक को कार से बाहर निकलने के लिए बोला था, परन्तु उसने मेरी बात नहीं मानी। विवेक ने कई बार बाइक में टक्कर मारी। यह देख उसने डराने के लिए पिस्टल निकालकर तान दिया था।

इस बीच दुर्भाग्य से गोली चल गई। दोनों सिपाहियों ने बयान में कहा कि उसने जान-बूझकर ऐसा किया होता तो वह भाग गए होते। घटना के बाद उन लोगों ने स्वयं ही गोमतीनगर थाने में नाइट अधिकारी को सूचना देकर मौके पर पुलिस बुलाई थी। उनका इरादा हत्या का नहीं था। दोनों ने बताया है कि वह पहले से विवेक या सना को नहीं जानते थे। उनका दोनों से कोई पुराना विवाद भी नहीं था।

Back to top button