ख़बरजरा हट के

वाह-वाह मौलाना! क्या दलील है- अल्लाह भरोसे पैदा किए 96 बच्चे!!!

दक्षिण एशिया में सबसे अधिक बर्थ रेट वाले देश पाकिस्तान में करीब 100 बच्चों को जन्म देने वाले तीन पुरूष उन लोगों में शामिल हैं, जिनके कारण देश की जनसंख्या बहुत ही तेजी से बढ़ रही है.

पाकिस्तान की बर्थ रेट दक्षिण एशिया में सबसे अधिक

विशेषज्ञों ने चेताया है कि बढ़ती जनसंख्या देश के आर्थिक विकास और सामाजिक सेवाओं को नुकसान पहुंचा रही है, लेकिन ये तीनों पिता इस बात को लेकर कतई चिंतित नहीं हैं. उनका कहना है कि अल्लाह उन्हें सब मुहैया कराएगा. विश्व बैंक और सरकारी आंकड़ों के अनुसार पाकिस्तान की बर्थ रेट दक्षिण एशिया में सर्वाधिक है और वहां प्रति महिला करीब तीन बच्चे हैं.

”बच्चों को क्रिकेट मैच खेलने के लिए दोस्तों की जरुरत नहीं”

गुलजार खान ने कहा, ‘‘ईश्वर ने पूरी कायनात और सभी मुनष्यों को बनाया है तो मुझे बच्चे के जन्म की नेचुरल प्रक्रिया क्यों रोकनी चाहिए?’’ बच्चों की इतनी अधिक संख्या का एक कारण पश्चिमोत्तर में कबायली दुश्मनी है, जहां बन्नू शहर में 57 साल के गुलजार अपनी तीसरी पत्नी के साथ रह रहा है जो गर्भवती है. उसने कहा कि वह मजबूत बनना चाहता है. उसने कहा कि उसके बच्चों को पूरा क्रिकेट मैच खेलने के लिए दोस्तों की आवश्यकता नहीं है.

‘अल्लाह ने वादा किया है, वह भोजन मुहैया कराएगा’

70 साल के मस्तान खान, वजीर गुलजार खान के 15 भाइयों में से एक है. उसकी भी तीन पत्नियां हैं और 22 बच्चे हैं. उसका कहना है कि उसके नाती पोतों की संख्या की गिनती नहीं की जा सकती. उसने कहा, ‘‘अल्लाह ने वादा किया है कि वह भोजन और संसाधन मुहैया कराएगा लेकिन लोगों का भरोसा कमजोर हो गया है.’’

‘100 बच्चों का पिता बनना चाहता है जान’

इसी तरह बलूचिस्तान प्रांत के क्वेटा में जान मोहम्मद के 38 बच्चे हैं. वह मस्तान की बात से सहमत है जबकि पहले वह सरकार से अपने परिवार के लिए संसाधन मुहैया कराए जाने की अपील कर चुका है. जान ने साल 2016 में एएफपी से बातचीत में चौथा विवाह करने की इच्छा जताई थी क्योंकि वह 100 बच्चों का पिता बनना चाहता है.

‘जनसंख्या जितनी अधिक, दुश्मन उनसे उतना ही डरेगा’

जन मोहम्मद ने कहा कि अभी तक किसी महिला ने सहमति नहीं जताई है लेकिन उसने उम्मीद नहीं छोड़ी है. उसने कहा, ‘‘मुसलमानों की जनसंख्या जितनी अधिक होगी, दुश्मन उनसे उतना ही डरेगा.. मुसलमानों को ज्यादा से ज्यादा बच्चों को जन्म देना चाहिए.’’

 

Back to top button