उत्तर प्रदेश

वाराणसी में गंगा के पानी का अचानक बदल रहा रंग, वैज्ञानिकों ने जताई चिंता

वाराणसी में गंगा के पानी का रंग हरा हो गया है। अर्धचंद्राकार गंगा घाटों और दूसरी तरफ रामनगर की ओर भी हरे शैवाल की एक परत सी जम गई है। इस पर BHU के न्यूरोलॉजिस्ट और गंगा प्रेमी प्रो. विजय नाथ मिश्रा ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने इसका सैंपल विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों को सौंपकर जांच करने को कहा है। केंद्रीय पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड (CPCB) की रीजनल टीम भी अलर्ट हो गई है। CPCB ने जांच शुरू कर दी है कि पानी का रंग क्यों हरा हो गया है?

जलीय जीवों के लिए मुश्किलें बढ़ सकती हैं
प्रो. विजय नाथ मिश्रा ने बताया कि पांच दिन पहले वह गंगा किनारे टहल रहे थे। इस दौरान उन्हें गंगा में हरे रंग की डाई दिखी। मंगलवार की शाम उन्होंने BHU के वैज्ञानिकों को टेस्टिंग के लिए गंगाजल का सैंपल दिया है। उधर, BHU के ही इंस्टिट्यूट ऑफ एनवायरनमेंट एंड सस्टेनेबल डेवलपमेंट के वैज्ञानिक डॉ. कृपा राम ने बताया कि सल्फेट या फास्फेट की मात्रा बढ़ने से शैवाल को प्रकाश संश्लेषण का मौका मिलता है। इस वजह से पानी में ऑक्सीजन की मात्रा घट जाती है और यह स्थिति जलीय जीवों के लिए ठीक नहीं होती है।

नाइट्रोजन और फॉस्फोरस फिलहाल निर्धारित मात्रा से ज्यादा मिले
केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी कालिका सिंह ने बुधवार को बताया हमारी टीम भी सैंपल ले रही है। फिलहाल नाइट्रोजन और फॉस्फोरस निर्धारित मात्रा से ज्यादा मिले हैं। सैंपल लेने का काम पूरा हो जाएगा तो किसी ठोस नतीजे पर पहुंचेंगे। उधर, वाराणसी में नमामि गंगे के संयोजक राजेश शुक्ला ने बताया कि प्रथमदृष्टया यह प्रतीत हुआ है कि गंगा के प्रवाह में कमी आई है। अगर गंगा का प्रवाह बरकरार रहेगा तो यह काई यानी हरे शैवाल की समस्या नहीं होगी।

Back to top button