जरा हट के

वायरल पड़ताल: क्या वाकई पैगंबर मोहम्मद ने बांधा था इन पत्थरों को ?

सोशल साइट्स जैसे फेसबुक और ट्वीटर पर बिना किसी ख़बर के सच को जाने धड़ाधड़ शेयर करने का नया ट्रेंड चला है. अब चाहे रेल की पटरी पे लेटी हुई लड़की की तस्वीर पे ‘7’ कमेंट कर के उसे बचाना हो या’दस लोगों को न भेजने पे पाप लगने’ जैसी बचकाना हरकत हो. ऐसी हरकतों से सब परेशान हैं.

कुछ सालों से ये फोटो सोशल साइट्स पर इस ‘कैप्शन’ के साथ घूम रही है कि ‘पैगंबर मोहम्मद नें इन दोनों पत्थरों को बाँधा था, जो आज भी मौजूद है. इसे शेयर करिए.हद तो तब हो जाती है जब अनपढ़ लोगों के साथ साथ पढ़े लिखे लोग भी इसे सच मान कर शेयर कर देते हैं.तो क्या है इसकी हक़ीकत ? क्या सच में पैगंबर मोहम्मद नें इन पत्थरों को बाँधा था ?

नहीं – ये झूठ है.

असल में ये काहिरा,मिस्र (Cairo,Egypt) एयरपोर्ट के बाहर लगा हुआ एक मूर्तिकला (sculpture) है जिसे ‘शाबान मोहम्मद अब्बास’ नाम के एक मूर्तिकार (sculptor) नें बनाया था.

‘मोहम्मद अब्बास’ की मृत्यु 41 वर्ष की आयु में 17 नवंबर 2010 को हुई थी.अब जब मूर्तिकार नें इसे अपने जीवन में बनाया तो ये 1400 साल पुरानी कैसे हो सकती है ?-रूहुल अमीन समी

Back to top button