क्राइम

लॉकडाउन में लवर की बर्थडे पार्टी के लिए युवक बन गया फर्जी डीएम, लेकिन फंसा दी ये गलती!

असम में एक युवक ने प्रेमिका की खातिर ऐसा कारनामा कर दिया कि वह जेल पहुंच गया। स्थानीय रिपोर्ट के अनुसार, युवक लॉकडाउन में प्रेमिका की बर्थडे पार्टी में जाना चाहता था। इसके लिए उसने एक गाड़ी किराए पर ली और पुलिस से बचने के लिए खुद को असम, जोरहाट के तिताबोर का फर्जी ‘मजिस्ट्रेट’ बताने लगा। लेकिन सच कहां छुपता है, जैसे ही पुलिस को सच्चाई का पता चला उन्होंने बंदे को जेल पहुंचा दिया।

किराए पर ली थी कार
‘द सेंटिनल असम‘ की रिपोर्ट के मुताबिक, शख्स की पहचान बिस्वाज्योति दत्ता उर्फ मधुरज्या बोरा के रूप में हुई है। वह जोरहाट जिला के तिताबोर के एक गांव का रहने वाला है। पुलिस ने युवक पर ‘डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट’ होने का झूठा दावा करने का आरोप लगाया है। बताया गया कि बर्थडे पार्टी में ढेकियाजुली जाने के लिए युवक ने एक कार किराए पर ली थी। लॉकडाउन में बिना जरूरी कारण के यात्रा करने के कारण कहीं पुलिस न पकड़ ले, इसलिए उसने गाड़ी पर ‘डिस्ट्रिक मजिस्ट्रेट’ लिखवाया और खुद को ‘मजिस्ट्रेट’ बताने लगा।

ड्राइवर भी रखा था शख्स
युवक ने यह काम बड़ी सफाई से किया था। असली ‘डीएम’ लगने के लिए उसने कार चलाने के लिए ड्राइवर भी रखा था। ड्राइवर ने ‘नागालैंड पोस्ट‘ को बताया कि युवक उसे बर्थडे पार्टी और दूसरी जगहों पर ले गया। वह तितबार का फर्जी डीएम बनकर चिनमारा पुलिस स्टेशन भी पहुंचा था, जहां उसकी पोल खुल गई। असल में, शख्स का पर्दाफाश उस वक्त हुआ जब वो चिनमारा पुलिस की एक चौकी पर तैनात पुलिसकर्मियों में कथित रूप से गलती खोजने की कोशिश करने लगा।

भेस बदलकर ठगता है लोगों को
बता दें, शख्स ने ऐसा पहली बार नहीं किया। वह कई दफा भेस बदल कर लोगों को ठगने की कोशिश करता पाया गया है। बीते साल लॉकडाउन के दौरान उसने डॉक्टर बनकर बहुत से लोगों को ठगा था। इतना ही नहीं, वो जुवेनाइल वकील और मेंबर ऑफ द डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड प्रोटेक्शन सर्विस का सदस्य होने का भी नाटक कर चुका है।

Back to top button