राजनीति

लालू का संदेश लेकर ओसामा से मिले तेजप्रताप, मान गया शहाबुद्दीन का परिवार!

पटना.

RJD परिवार की तरफ से शहाबुद्दीन के परिवार को मनाने का क्रम जारी है। गुरुवार को बंद कमरे में तेजप्रताप और शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा की बातचीत हुई। पहले दूसरी जगह मुलाकात हुई थी फिर ओसामा उन्हें अपने घर ले गए। इस मुलाकात के बाद शहाबुद्दीन समर्थकों की राय बदली है। वे कह रहे हैं कि देर आए दुरुस्त आए। शहाबुद्दीन के परिवार को मनाने के लिए तेजप्रताप के साथ आसपास के दर्जनों नेता पहुंचे थे। अब ओसामा भी नॉर्मल हो गए हैं।

तेजप्रताप यादव आज सुबह ही अपने सरकारी आवास से सीवान के लिए निकले। अपने लाव लश्कर के साथ तेजप्रताप जब सीवान के लिए निकले तो उनके साथ कई विधायक और पूर्व विधायक भी थे। ये पहली बार हुआ है, जब लालू परिवार की तरफ से किसी सदस्य ने शहाबुद्दीन के परिवार से मुलाकात की हो। 1 मई को शहाबुद्दीन का निधन दिल्ली के DDU अस्पताल में कोरोना संक्रमण से हो गया था। लेकिन, अब तक लालू परिवार की तरफ से किसी सदस्य ने शहाबुद्दीन की पत्नी या फिर बेटे से मुलाकात नहीं की थी। उसी समय लालू यादव जमानत पर रिहा हुए थे। लालू यादव का पूरा परिवार दिल्ली में ही था लेकिन, किसी ने कोई मुलाकात नहीं की। अब तेजप्रताप यादव सीवान के प्रतापपुर पहुंच कर शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा से मुलाकात कर रहे हैं।

शहाबुद्दीन के परिवार से JDU के नेता भी मिल चुके हैं
तेज प्रताप यादव से पहले RJD के कई नेता शहाबुद्दीन के पैतृक आवास सीवान के प्रतापपुर पहुंचकर उनके परिवार से मिल चुके हैं। अभी दिवंगत नेता शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब किसी से मिल नहीं रही हैं। शहाबुद्दीन के पुत्र ओसामा सभी लोग से मिल रहे हैं। तेजप्रताप यादव अपने पिता लालू यादव के मैसेज को भी ओसामा तक पहुंचाने सीवान गए हैं। शहाबुद्दीन लालू यादव के काफी करीबी नेताओं में थे। लालू यादव किसी भी कीमत पर शहाबुद्दीन के परिवार को छोड़ना नहीं चाहते हैं।

सीवान और आसपास के इलाकों में शहाबुद्दीन का प्रभाव रहा है, इसका फायदा RJD को मिलता रहा है। अब लालू यादव इसे अपने हाथ से नहीं जाने देना चाहते हैं। बीच के दिनों में यह चर्चा चलने लगी थी कि कहीं शहाबुद्दीन का परिवार JDU में तो नहीं शामिल हो रहा है, क्योंकि पिछले दिनों JDU के नेता राधाचरण सेठ ने भी ओसामा से मुलाकात की थी। ऐसे में लालू परिवार आननफानन में शहाबुद्दीन के परिवार को पूरी तरह से अपना हिस्सा बनाने में जुटा है। तेजप्रताप यादव ने मुलाकात के दौरान ओसामा को सांत्वना दी और कहा कि RJD परिवार आपके साथ है। हर सुख दुख में हम साथ रहेंगे।

RJD के रवैये से थी गहरी नाराजगी

दरअसल, 1 मई को RJD के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन का निधन दिल्ली के DDU अस्पताल में कोरोना की वजह से हो गई थी। शहाबुद्दीन के निधन के बाद से उनके समर्थकों में लालू यादव और उनके परिवार के खिलाफ नाराजगी देखने को मिल रही थी। शहाबुद्दीन के समर्थक यह मानते हैं कि लालू यादव और उनके परिवार के लोगों ने शहाबुद्दीन को बचाने की कोशिश नहीं की। बाद में जब उनकी मृत्यु हो गई, तब भी उन्हें दफनाने में लालू यादव से कोई मदद नहीं मिली।

यहां तक शहाबुद्दीन के शव को दिल्ली से सीवान नहीं लाया जा सका। इस बात पर RJD के विधायकों में भी नाराजगी देखने को मिल रही है। इस नाराजगी को दूर करने में लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव आगे आए हैं।

Back to top button