सेहत

रोज सुबह पिएं ये जूस, हजार बीमारियां रहेंगी हमेशा दूर

शरीर में खून की खराबी की वजह से कई सारे दोष उत्पन्न हो जाते हैं. यह दोष खुजली, दाद, खाद, एक्ने, पिम्पल्स और भी कई तरह से इंसान के शरीर में नजर आते हैं. करेले के जूस के इस्तेमाल से खून में मौजूद सभी विषाक्त पदार्थ किडनी के द्वारा शरीर के बहार चले जाते हैं.

त्वचा सम्बन्धी समस्याओं को ख़तम करता है करेले का जूस

करेले में एंटी-ओक्सिडेंट की भरपूर मात्रा पाई जाती है. इसके साथ इसमें एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं. इससे त्वचा में निखार आता है और चेहरे में झुररियाँ ठीक होती हैं.

डायबिटीज के खतरे को करता है कम

करेले में एक तत्व पाया जाता है, जिसका नाम p-insulin है. यह तत्व शरीर में इन्सुलिन लेवल को बनाए रखता है और इन्सुलिन की कार्य क्षमता में सुधार लाता है. इसुलिन लेवल में बढ़ोतरी रक्त में शर्करा को कम करने में मददगार होता है और इससे डायबिटीज से निजात पाया जा सकता है.

कैंसर के खतरे को कम करता है

एक शोध में यह बात सामने आई है कि करेला कैंसर विरोधी तत्व से भरपूर होता है. इसमें मौजूद एंटी-oxidents गुण कैंसर के खतरे को कम करते हैं. इससे कैंसर के पनपने का खतरा काफी कम हो जाता है. इससे महिलाओं में होने वाले कैंसर प्रोस्टेट और स्तन कैंसर से छुटकारा पाया जा सकता है.

वजन कम करने में है मददगार

करेले के जूस के सेवन से शरीर में मेटाबोलिज्म प्रोसेस सही ढंग से काम करता है. इससे आपके शरीर में मौजूद एक्स्ट्रा फैट कैलोरी के रूप में पिघल जाता है और आपके बढे हुए वजन को कम किया जा सकता है. इसके अलावा भी करेला आपके भूंख को कम करता है और शरीर को उसके आवश्यकता अनुसार ऊर्जा की प्राप्ति नहीं हो पाती है. ऊर्जा पाने के लिए शरीर बॉडी में स्टोर्ड फैट को कैलोरी की तरह इस्तेमाल करता है और फैट को रिड्यूस करता है.

गुर्दे में पथरी का इलाज

गुर्दे में पथरी का इलाज करेले के जूस के इस्तेमाल से किया जा सकता है. करेले का जूस शहद के साथ पीने से गुर्दे में मौजूद पथरी टूट जाती है. टूटी हुई पथरी युरिन के जरिये बहार चली जाती है. इससे आपके गुर्दे में मौजूद किसी भी तरह की पथरी बाहर चली जाती है.

लीवर स्वस्थ रखता है

करेला लीवर में toxins को ख़तम करता है और यह लीवर को स्वस्थ रखता है. लीवर की कार्यक्षमता मे सुधार लाने के लिए करेले के जूस का इस्तेमाल करना उचित रहेगा. इससे लीवर सम्बन्धी बीमारियाँ नहीं होती है. पीलिया को ख़तम करने के लिए करेले के जूस का इस्तेमाल करना उचित रहेगा.

कब्ज ख़त्म करता है

दरअसल, कब्ज फाइबर की कमी से हो सकता है. करेले के जूस में फाइबर की भरपूर मात्रा होती है. इससे कब्ज से आसानी से निजात पाया जा सकता है. इसके लिए आप करेले में पीसी हुई आजवाइन को इस्तेमाल करें.

करे बवासीर का खात्मा

करेले के जूस में नीबू और शक्कर मिलाकर पियें. इससे बवासीर का इलाज संभव है. यह हर तरह के बवासीर को ख़तम कर सकता है.

मलेरिया

कड़वा करेला मलेरिया को दूर करने के लिए बेहतर औषधि माना जाता है. इसके जूस में काली मिर्च पीसकर रोगी को पिलाएँ. इसके अलावा भी आप करेले की पतियों को अच्छी तरह से पीसकर रोगी शरीर पर लेप लगाएँ.

साँस की बीमारी में लाभकारी

अस्थमा, खाँसी और भी कई श्वास सम्बन्धी विकारों में करेले का जूस उपयोग में लाया जा सकता है.

इम्यून सिस्टम ठीक करता है

करेले के जूस में मिनरल्स, और विटामिन्स भरपूर मात्रा में पाया जाता है. यह हमारे इम्यून सिस्टम को सुधारता है और रोगों को आपसे दूर रखता है.

Back to top button