उत्तर प्रदेश

रेमडेसिवीर की कालाबाजारी रोकने के लिए प्रशासन ने बनाया पोर्टल, आवेदन के बाद मिलेगा इंजेक्शन

गाजियाबाद में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी रोकने के उद्देश्य से प्रशासन ने एक वेबसाइट जारी की है। इस पर अब जिन मरीजों को रेमडेसिविर इंजेक्शन की आवश्यकता है। पहले उसे साइट पर रजिस्ट्रेशन कर आवेदन करना होगा। उसके बाद रेमडेसिविर उपलब्ध कराया जाएगा। प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि इससे जरूरतमंद लोगों को सही समय और उचित रेट पर इंजेक्शन उपलब्ध होगा। साथ ही नकली इंजेक्शन से भी बचा जा सकेगा।

वेबसाइट जारी
मुख्य विकास अधिकारी अस्मिता लाल ने जानकारी देते हुए बताया कि इन दिनों कुछ लोग मोटा मुनाफा कमाने के उद्देश्य से कालाबाजारी कर रहे हैं और जरूरतमंद मरीजों को समय पर इंजेक्शन उपलब्ध नहीं हो पाता है। इसे गंभीरता से लेते हुए एक वेबसाइट जारी की गई है। जरूरतमंद लोगों को अब रेमडेसिविर इंजेक्शन की आवश्यकता होने पर वेबसाइट http://gzbcovidtracker.in/Registration पर आवेदन करना होगा। इस वेबसाइट में पेशेंट का नाम, मोबाइल नंबर, आधार कार्ड, पता और हॉस्पिटल का नाम आदि का पूरा विवरण देना होगा। इसके बाद सभी लोगों को सरलता से रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध होंगे। वहीं, कोविड 19 नोडल अधिकारी सेंथिल पांडियन सी ने कहा कि किसी भी हाल में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी नहीं होने दी जाएगी। इसके लिए खाद्य सुरक्षा अधिकारी विनीत कुमार को कड़े निर्देश दिए गए हैं।

समय पर मिलेगी जीवन रक्षक दवा
इसके अलावा प्रभारी जिलाधिकारी कृष्णा करुणेश ने कहा कि इस पोर्टल के माध्यम से लोगों तक बड़ी ही सरलता से रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध हो सकता है। यह सब लोगों की सुविधाओं के लिए किया गया है। इसका सभी लोग लाभ उठा सकते हैं। हालांकि, अगर कोई संपर्क करता है तो मैनुअल प्रक्रिया नियंत्रण कक्ष के माध्यम से जारी रहेगी। यह सुविधा उन लोगों के लिए जारी रहेगी, जिन लोगों को टेक्निकल सुविधा नहीं आती है।


Back to top button