राजनीति

राजनीति के कच्चे खिलाड़ी नहीं हैं चंद्रबाबू नायडू, कुछ तो बात है जो नाप रहे पूरा देश

लोकसभा चुनाव को लेकर आये एग्जिट पोल में कुछ भी दावा किया गया हो लेकिन विपक्ष के तेवर बता रहे हैं कि उसकी उम्मीदें अभी बरकरार हैं. मंगलवार को जहाँ विपक्ष ने एक बार फिर एकजुटता दिखाते हुए ईवीएम के मुद्दे पर चुनाव आयोग को घेरा वहीँ दूसरी तरफ आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने विपक्ष को एकजुट करने की अपनी मुहिम जारी रखी.

चंद्रबाबू नायडू ने कल बेंगलुरु में कर्नाटक के मुख्यमंत्री और जेडीएस नेता कुमार स्वामी और उनके पिता पूर्व पीएम एच डी देवगौड़ा से मुलाक़ात की. बैठक के बाद देवगौड़ा ने मीडिया से बातचीत में कहा कि जब तक चुनाव परिणाम न आ जाएँ तब तक हम गठबंधन को लेकर कोई बातचीत नहीं करेंगे.

जब टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू से पूछा गया कि पीएम पद के लिए जनता दल सेकुलर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नाम का समर्थन कर रही है तो इसके जबाव में नायडू ने कहा कि इसमें कोई बुराई नहीं है. चुनाव परिणाम आने के बाद इस मामले में हम सब लोग बैठकर निर्णय लेंगे.

इससे पहले 22 विपक्षी दलों के नेताओं ने चुनाव आयोग में ज्ञापन देकर मांग की कि यदि किसी पोलिंग बूथ में ईवीएम और वीवीपैट का सही मिलान न हो तो पूरे विधानसभा क्षेत्र में दोबारा गिनती की जाए.

चुनाव आयोग को दिए गए ज्ञापन में यह भी कहा गया है कि पांच पोलिंग बूथ के वीवीपैट पर्चियों का मिलान वोटों की गिनती से पहले किया जाए, न कि आखिरी राउंड की गिनती के बाद. अगर वीवीपैट मिलान गलत निकलता है तो उस विधानसभा क्षेत्र की सभी वीवीपैट पर्चियों का मिलान किया जाना चाहिए.

Back to top button