उत्तर प्रदेशख़बर

योगी ने हनुमान को बताया दलित, ब्राह्मणों ने भेज दिया नोटिस

इन दिनों बीजेपी के लिए पीएम मोदी के बाद सबसे बड़े स्टार प्रचारक अगर कोई हैें, तो वो हैं यूपी के सीएम योगी. हर चुनावी राज्य में योगी की सभाओं की खासी डिमांड है और योगी काफी सभाएं कर भी रहे हैं. लेकिन ऐसी ही एक सभा में योगी के मुंह से निकली एक बात उनके लिए कानूनी मुसीबत बन गई है.

दरअसल उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजस्थान में प्रचार के दौरान बजरंगबली को दलित बता दिया. उनके इस बयान पर राजस्थान ब्राह्मण सभा ने त्यौरियां चढ़ा ली हैं. ब्राह्मण सभा ने हनुमान जी को जाति में बांटने का आरोप लगाते हुए योगी आदित्यनाथ को कानूनी नोटिस भेजा है.

बीजेपी ने पल्ला झाड़ा, कांग्रेस ने घेरा

इधर बीजेपी ने योगी के हनुमान की जाति पर दिए बयान से किनारा कर लिया. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस संबंध में सवाल पूछे जाने पर गोल-मोल जवाब देते हुए कहा कि ये तो उन्होंने कांग्रेस को जवाब देने के लिए कहा होगा. वहीं कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि ये लोग वोट के लिए जाति को भी नही छोड़ते हैं.

बजरंगबली को कहा था दलित, वनवासी

गौरतलब है कि अलवर जिले के मालाखेड़ा में एक सभा को संबोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने बजरंगबली को दलित, वनवासी, गिरवासी और वंचित करार दिया. योगी ने कहा कि बजरंगबली एक ऐसे लोक देवता हैं जो स्वयं वनवासी हैं, गिर वासी हैं, दलित हैं और वंचित हैं.

Back to top button