उत्तर प्रदेशख़बर

यूपी वाले हो जाएं तैयार, अब भरना होगा ‘गाय-टैक्स’

गाय सुरक्षा से जुड़े मामलों ने बीते दिनों में उत्तर प्रदेश में सुर्खियां बटोरीं हैं. फिर चाहे वो गौ रक्षा हो या फिर सड़क पर घूमते आवारा पशु, अब उत्तर प्रदेश सरकार हर जिले में गोशाला बनाने की ओर कदम बढ़ा रही है. इन आश्रय स्थलों को बनाने के लिए नये सेस को लाया गया है, ‘गौ कल्याण सेस’. जिसका उपयोग आश्रय स्थल को बनाने और उसकी देखभाल में किया जाएगा.

उत्तर प्रदेश में आवारा घूम रहे गायों के लिए उत्तर प्रदेश सरकार अब हर ग्राम पंचायत में कम से कम 1000 क्षमता वाले गोवंश आश्रय स्थल बनवाएगी. इसमें रहने वाले मवेशियों के रखरखाव के खर्च के लिए सरकार शराब सहित अन्य चीजों पर गो कल्याण सेस लगाएगी. सरकार का लक्ष्य है कि इस गो कल्याण सेस के जरिए साल में लगभग 300-400 करोड़ रुपये की अतिरिक्त आय होगी जिसे गायों की देखभाल में लगाया जाएगा. यह फैसला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को लोकभवन की हुई कैबिनेट बैठक में लिया गया.

इस गो सेवा सेस को लेकर प्रदेश में सियासत तेज हो गई है. समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने योगी सरकार के इस कदम पर सवाल उठाए हैं. उनका कहना है कि सरकार की नीयत में खोट है. प्रदेश में गाय के नाम पर घोटाला होगा.

Back to top button